शांति के लिए 'सेक्स हड़ताल'

इमेज कॉपीरइट AFP

अफ्रीकी देश दक्षिण सूडान में चल रहे संघर्ष को रोकने के लिए महिला कार्यकर्ताओं ने अनोखा रास्ता अपनाया है.

इन महिलाओं ने देश भर की महिलाओं से अपील की है कि जब तक देश में शांति नहीं हो जाती तब तक प्रत्येक महिला को अपने पति के साथ सेक्स से इनकार कर देना चाहिए.

कार्यकर्ताओं ने देश की सभी महिलाओं से इस हड़ताल में शामिल होने की अपील की है. इनका मानना है कि उनके इस क़दम से पुरुष हिंसा छोड़ देंगे.

'सूडान ट्रिब्यून' की रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण सूडान की राजधानी जूबा में महिला कार्यकर्ताओं की बैठक में इस तरह की हड़ताल का विचार आया. इस बैठक में देश की कई सांसदों समेत 90 से ज़्यादा महिलाएं शामिल हुईं.

कामयाब तरीका

दक्षिण सूडान की सरकार दिसंबर 2013 से विद्रोहियों के साथ संघर्ष कर रही है. गृह युद्ध के चलते हज़ारों लोगों को पड़ोसी देशों में शरण लेनी पड़ी है.

इमेज कॉपीरइट AFP

वैसे ये पहला मौका नहीं है जब महिलाओं ने सेक्स हड़ताल का रास्ता अपनाया है.

2003 में लाइबेरिया की महिलाओं ने ऐसे ही हड़ताल के जरिए 14 साल से चले आ रहे गृह युद्ध को समाप्त कराने में कामयाबी हासिल की थी.

लाइबेरिया में सेक्स हड़ताल का नेतृत्व करने वाली लेयमाह गबोवी को 2011 में नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं. बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार