बात करनी है तो भारत पहल करे: पाक

नवाज़ शरीफ़, नरेंद्र मोदी, भारत और पाकिस्तान इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption (फ़ाइल फोटो)

पाकिस्तान सरकार के एक अहम अधिकारी तारिक फातमी ने कहा है कि पाकिस्तान बातचीत के लिए भारत से संपर्क नहीं करेगा और इस मामले में अब भारत को ही पहल करनी होगी.

फ़ातमी विदेश मामलों पर प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ के विशेष सहायक हैं. उन्होंने बीबीसी उर्दू को बताया, "प्रधानमंत्री शरीफ़ की कोशिशों से ये बातचीत शुरू होने जा रही थी जिसे भारत ने ख़त्म करने का ऐलान कर दिया."

अगस्त में दोनों देशों के विदेश सचिवों की बैठक को भारत ने उस समय रद्द कर दिया जब दिल्ली में पाकिस्तानी उच्चायुक्त ने कश्मीर के अलगाववादी नेताओं से मुलाक़ात की.

फ़ातमी ने कहा, "अब बातचीत के लिए भारत को ही पहल करनी होगी. हम इस बारे में अब भारत से कोई संपर्क नहीं करेंगे."

'जल्द बेहतरी मुश्किल'

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption भारत कश्मीर को दो देशों के बीच का मामला मानता है.

भारत से निकट भविष्य में रिश्ते बेहतर होने की संभावनाओं पर उन्होंने कहा, "हमारी कोशिश है कि भारत के साथ रिश्ते सामान्य हों लेकिन बदकिस्मती से ये रिश्ते अभी बेहद मुश्किल दौर से गुज़र रहे हैं. और इनमें तुरंत कोई बेहतरी मुश्किल दिखाई देती है."

उन्होंने कहा कि कश्मीर पाकिस्तान की विदेश नीति का अहम केंद्र रहा है और हमेशा रहेगा.

हाल में पाकिस्तान ने पत्र लिख कर कश्मीर के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र से दखल देने को कहा लेकिन संयुक्त राष्ट्र ने दोनों देशों से इस मुद्दे को सुलझाने को कहा.

भारत कश्मीर को दोतरफा मुद्दा मानता है और इसमें किसी तरह के अंतरराष्ट्रीय हस्तक्षेप के ख़िलाफ़ है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार