बुरकिना फ़ासो: कार्यवाहक राष्ट्रपति तय

बुरकीना फ़ासो, कर्नल इसाक ज़िदा इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption कर्नल इसाक ज़िदा दूसरे सैन्य अधिकारी हैं जिन्होंने राष्ट्रप्रमुख पद पर दावा किया है.

अफ्रीकी देश बुरकिना फ़ासो की सेना ने लैफ़्टिनेंट कर्नल इज़ाक ज़ीदा को कार्यवाहक राष्ट्रपति के बतौर अपना समर्थन दे दिया है.

देश में ब्लैस कोम्पाएरो के राष्ट्रपति पद से इस्तीफ़े की घोषणा के बाद राष्ट्र प्रमुख कौन हो इस पर बहस चल रही है.

कोम्पाएरो ने 27 साल तक पद पर रहने के बाद पद छोड़ा है.

इसके बाद प्रेसिडेंशियल गॉर्ड्स के सेकेंड इन कमांड कर्नल इसाक ज़िदा ने कहा था कि उन्होंने राष्ट्र प्रमुख पद की ज़िम्मेदारी संभाल ली है.

पहले सेना प्रमुख होनोरे ट्राओरे ने देश की बागडोर अपने हाथ में लेने की घोषणा की थी.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption ब्लैस कोम्पाएरो 27 सालों तक बुरकिना फ़ासो के राष्ट्रपति रहे.

हिंसक विरोध प्रदर्शनों के बाद शुक्रवार को कोम्पाएरे ने इस्तीफ़ा देने की घोषणा की. उनकी घोषणा के बाद राजधानी वागडूगू में लोग सड़कों पर जश्न मनाते नज़र आए.

बुरकिना फ़ासो में सरकार विरोधी प्रदर्शनों के दौरान देश की संसद एवं अन्य सरकारी इमारतों में आगज़नी की घटनाएं हुई थीं.

प्रदर्शनकारी आगामी चुनावों में हिस्सा लेने के लिए संविधान में बदलाव किए जाने की राष्ट्रपति ब्लैस कोम्पाएरो की योजना का विरोध कर रहे थे.

कोम्पाएरो 1987 में एक तख़्तापलट के जरिए सत्ता में आए थे. उसके बाद चार विवादास्पद राष्ट्रपति चुनावों में उन्होंने जीत दर्ज की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार