ईरान: खेल देखने के लिए लड़की को जेल

इमेज कॉपीरइट Amnistia Internacional

ईरान में पुरुषों का वॉलीबॉल मैच देखने की कोशिश करने के लिए गिरफ़्तार ईरानी मूल की ब्रितानी महिला को एक साल कारावास की सज़ा सुनाई गई है.

ग़ोन्चे ग़वामी के वकील ने रविवार को यह जानकारी दी.

लंदन से क़ानून स्नातक 25 वर्षीय ग़वामी को जून में तेहरान स्टेडियम से हिरासत में लिया गया था.

ग़ोन्चे के वकील अलीजादेह तबातबाई ने ईरानी मीडिया को बताया, "अदालत ने उन्हें एक साल की सज़ा सुनाई है."

हालांकि सज़ा का कोई कारण नहीं बताया गया है.

इमेज कॉपीरइट EPA

ईरानी अधिकारियों के मुताबिक़ ग़वामी की गिरफ़्तारी का वॉलीबॉल मैच से कोई लेना-देना नहीं, बल्कि ऐसा सुरक्षा कारणों से किया गया है.

'ग़वामी को रिहा करो'

ग़वामी पिछले 126 दिनों से तेहरान की कुख्यात जेल 'एविन प्रिज़न' में बंद हैं.

ग़वामी के दोस्तों और परिजनों ने उनकी रिहाई की मांग करते हुए 'फ़ेसबुकपर ज़ोर-शोर से अभियान चलाया था.

इमेज कॉपीरइट PA

फ़ेसबुक पेज के अनुसार,"ग़वामी के परिवार और वकील को अब तक यह नहीं बताया गया है कि गिरफ़्तारी का क्या आधार है. निष्पक्ष और न्यायसंगत क़ानूनी प्रक्रिया हर नागरिक का हक़ है. आख़िर ग़वामी के मामले में इन अधिकारों को अनदेखा क्यों किया जा रहा है?"

अशिष्ट व्यवहार

वॉलीबॉल की महिला प्रशंसकों और महिला पत्रकारों पर भी तेहरान के 'आज़ादी स्टेडियम' में मैच देखने पर पाबंदी लगाई गई थी.

इसी के चलते ग़वामी की गिरफ़्तारी हुई.

इमेज कॉपीरइट EPA

ईरान पुलिस प्रमुख जनरल इस्माइल अहमदी मोगाद्दम के मुताबिक़ मर्द और औरतों का ऐसे मौक़ों पर एक साथ होना अब भी 'सार्वजनिक हित' में नहीं है.

ग़वामी की गिरफ़्तारी के समय जनरल इस्माइल ने कहा था कि पुलिस क़ानून-व्यवस्था का पालन कर रही है.

ईरान में महिलाओं के फुटबॉल मैच देखने पर भी पाबंदी है. अधिकारियों का कहना है कि महिलाओं को पुरुषों के अशिष्ट व्यवहार से बचाने के लिए ऐसी व्यवस्था की गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार