मर्द पहन सकते हैं औरतों के कपड़े

फैसला सुनाने वाली अदालत के बाहर ख़ुशी मनाते ट्रांसजेंडर्स एक्टिविस्ट इमेज कॉपीरइट AFP

मलेशिया की एक अदालत ने मुसलमान मर्दों को महिलाओं के कपड़े पहनने की छूट दे दी है.

अदालत ने पुरुषों को ऐसा करने से रोकने वाले इस्लामी क़ानून को पलट दिया है.

मलेशिया में मर्दों के ज़नाना कपड़े पहनने पर तीन साल तक की जेल की सज़ा हो सकती थी.

इसे तीन मुसलमानों ने चुनौती दी थी, ये तीनों लोग पुरुष के रूप में पैदा हुए थे लेकिन उनका रहन-सहन महिलाओं वाला था.

दमनकारी क़ानून

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मलेशिया में दो तरह के क़ानून हैं. मुसलमानों को इस्लामिक क़ानून का पालन करना होता है

इन्हें चार साल पहले गिरफ्तार कर लिया गया था. एक निचली अदालत ने 2012 में फैसला सुनाया कि पुरुष के रूप में पैदा होने के कारण उन्हें पुरुषों के कपड़े पहनने होंगे.

याचिका पर फ़ैसला सुनाते हुए अपीलीय अदालत के न्यायाधीश मोहम्मद यूनुस ने कहा कि यह 'अपमानजनक, दमनकारी और अमानवीय क़ानून' लैंगिक आधार पर लोगों से भेदभाव करता है.

याचिकाकर्ताओं के वकील एस्टन पाइवा ने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा कि परंपरावादी देश के लिए यह फ़ैसला ऐतिहासिक है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार