भारत-पाक में मामला रक़म का है?

नरेंद्र मोदी, नवाज़ शरीफ़, भारत, पाकिस्तान इमेज कॉपीरइट Reuters

अब तो मुझे तरस आने लगा है उन बेचारों पर जो चाहते हैं कि भारत और पाकिस्तान के संबंध भले जैसे भी हों, वो उनके जीवन में ही सुधर जाएँ.

पर जब मैं पूछता हूँ कि मियाँ जी आप इतने उतावले क्यों हो रहे हो? अभी तो सिर्फ 67 बरस ही बीते हैं आपसी तनाव को, ऐसी भी क्या जल्दी. तो ये मित्र मुझे यूँ घूरते हैं जैसे मैं भी पागल हूँ.

देखो भाई, बात है सीधी-सीधी, न तो आपसे पूछ के ये संबंध ख़राब हुए, न आपके कहने से ठीक होंगे.

भले हर चौदह और पंद्रह अगस्त को वाघा-अटारी पर सौ छोड़ एक लाख दीये जला लें, भले हज़ार दफा तस्बीह घुमा लें कि हवन करा लें, भले ट्रैक टू डिप्लोमेसी का चक्कर चला लें कि सीमा पार से सेमिनारों और कॉन्फ्रेंसों के बहाने बुलाए जाने वाले मेहमानों के कल्ले से कल्ला मिलाकर चुम्मा फोटो खिंचवाएं, रत्ती बराबर फर्क नहीं पड़ने का.

कौन करता है घाटे का सौदा?

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

ऐ भोली फाख्ताओं, दुनिया का कौन सा ऐसा देश है जो जानबूझकर घाटे का सौदा करता है. तो ये क्यों न मान लिया जाए कि अभी जैसे-कैसे भी संबंध हैं, वो दोनों देशों के हित में हैं. और ये तभी सामान्य होंगे जब दोनों देशों को लगेगा कि अब फ़ायदे से ज़्यादा नुकसान हो रहा है.

देखिए, बुरे संबंध अच्छे होने के तीन ही कारण होते हैं. या तो आप एक-दूसरे के बिना मरे जा रहे हों. मगर इश्क मानव करते हैं, देश तो बस एक-दूसरे से फ्लर्ट ही करते हैं.

या फिर एक दूसरे को इतना मारकूट लें कि थक के चूर हो जाएं और फिर अहसास हो कि लड़ाई अच्छी चीज़ नहीं, इंसान के बच्चे बनकर रहने में ही फ़ायदा है.

मगर अभी तक न तो भारत सही से पाकिस्तान को कूटपीट सका और न ही पाकिस्तान की एक के बाद दूसरे बदले की भावना ठंडी हुई है.

जब आर्थिक फ़ायदा हो

इमेज कॉपीरइट AFP

या फिर तीसरा कारण ये है कि आज की दुनिया में एक देश दूसरे देश के लिए आर्थिक स्तर पर फ़ायदेमंद हो तभी आपस में मुट्ठीचापी शुरू होती है. इसका ज़िंदा उदाहरण भारत-चीन संबंध है.

जब एक दिन दोनों ने समझ लिया कि कोई किसी को नहीं पछाड़ सकता तो मुफ़्त में एक दूसरे की मंडी गोरों के हाथों क्यों गवाँएं?

दोनों ने किसी बिचौलिए के बग़ैर एक दूसरे से दिल ही दिल में समझौता कर लिया.

कहाँ 2002 में दोनों देशों ने एक दूसरे को पाँच खरब डॉलर का माल बेचा, कहाँ आज बात 70 खरब डॉलर तक पहुँच गई.

टिप बराबर रक़म

इमेज कॉपीरइट Xinhua

चीन इस वक़्त भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है, जबकि सीमा पर कौन सा इलाक़ा किसका, वो झगड़ा अपनी जगह ज्यों का त्यों.

पाकिस्तान और भारत को एक दूसरे से आर्थिक लाभ पहुँचने का अभी तक ऐसा कोई लालच नहीं जिसके होते दोनों कहें कि भाड़ में जाएं ऐतिहासिक झगड़े पहले मिलकर नोट कमा लें, झगड़े भी निपटते रहेंगे.

इस वक़्त दोनों देश लगभग ढाई अरब डॉलर का आपसी व्यापार करते हैं. अब इतनी सी रक़म कमाने के लिए आपसी संबंध क्या अच्छे करने, इतने तो कमाऊ देश वेटर को टिप में ही दे देते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार