हर साल डूब कर मरते हैं 3.72 लाख बच्चे

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर में बच्चों और युवाओं की मौत की दस सबसे बड़ी वजहों में डूब कर मरना भी शामिल है.

डब्ल्यूएचओ के ग्लोबल सर्वे के मुताबिक दुनिया भर में हर साल 3.72 लाख मौतें डूबने से होती हैं. इसमें सबसे ज़्यादा ख़तरा पांच साल से कम उम्र के बच्चों को होता है.

रिपोर्ट के मुताबिक साल 2012 में टीबी और खसरे से होने वाली मौतों से ज़्यादा बच्चों की मौत डूबने से हुई.

साल 2012 में पंद्रह साल से कम उम्र के बच्चों के डूबने से हुई मौत के 1,40, 219 मामले दर्ज हुए थे. ये टीबी से होने वाली मौतों की संख्या 69,648 से लगभग दोगुने हैं.

रिपोर्ट से ये भी पता चलता है कि डूबने से होने वाली मौतें ज़्यादातर निम्न और मध्यम आय वाले देशों में होती हैं.

अफ्रीका, दक्षिण पूर्वी एशिया और पश्चिमी प्रशांत महासागरीय क्षेत्र में डूबने से होने वाली मौतों के मामले ज़्यादा देखे गए हैं.

बचाव के उपाय

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉ. मार्गेरेट चान ने कहा, "शिशु मृत्यु दर में काफी गिरावट दर्ज हुई है लेकिन इस दौरान कई दूसरे चाइल्डहुड किलर का पता चला है. डूबना उनमें से एक है."

इस रिसर्च रिपोर्ट में कुछ सुझाव बताए गए हैं जिसके ज़रिए डूबने से होने वाली मौतों को कम करने में मदद मिलेगी.

इसमें स्कूलों में बच्चों को तैरना और बचाव के उपाय के अलावा नावों और समुद्री जहाज़ो में सफ़र के नियमों के बारे में बताना शामिल है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार