ईरान मामले पर 'महाशक्तियों' में बातचीत जारी

ईरान परमाणु कार्यक्रम इमेज कॉपीरइट Other

ईरान के विवादित परमाणु कार्यक्रम को लेकर तय की गई समयसीमा सोमवार को ख़त्म हो रही है, लेकिन वियना में चल रही बातचीत के नतीजे पर आशंका बरकरार है.

अमरीका और जर्मनी ने कहा है कि सभी पक्ष समयसीमा की खाई को पाटने के लिए बातचीत कर रहे हैं और कुछ का सुझाव है कि समयसीमा को बढ़ा दिया जाए.

विश्व के छह अग्रणी देश चाहते हैं कि अमरीकी प्रतिबंधों के हटाए जाने के एवज में ईरान अपना परमाणु कार्यक्रम सीमित करे.

उधर, ईरान ने इस दावे का खंडन किया है कि वो परमाणु हथियार बनाना चाहता है. ईरान का कहना है कि उसका कार्यक्रम शांतिपूर्ण कार्यों के लिए है.

इमेज कॉपीरइट Other

ब्रिटेन, चीन, फ्रांस, रूस, अमरीका और जर्मनी के प्रतिनिधि वियना में बातचीत कर रहे हैं.

शनिवार को अमरीकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने कहा, "हम पूरी कोशिश कर रहे हैं. हम प्रगति कर रहे हैं, लेकिन अभी मंजिल दूर है."

दौरा स्थगित

ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावेद जाफ़री से मिलने के लिए केरी ने अपना पेरिस दौरा स्थगित कर दिया था. यह अमरीका और ईरान के बीच तीन दिनों में चौथी वार्ता है.

इमेज कॉपीरइट AP

वियना में मौजूद बीबीसी संवाददाता बेथैनी बेल के अनुसार, इस बातचीत में बहुत कुछ दांव पर लगा हुआ है और यह पूरे मध्य पूर्व की राजनीति को बदल सकती है.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के अनुसार, इस बातचीत में कोई अहम प्रगति नहीं हुई है और किसी नतीजे पर पहुंचने की संभावना कम हो गई है.

ईरानी सूत्रों ने बीबीसी को बताया कि ईरान की सरकार को पूरा भरोसा है कि हल अब भी संभव है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार