इस्लामिक स्टेट पर हवाई हमलों का असर नहीं

इस्लामिक स्टेट इमेज कॉपीरइट AP

सीरिया के विदेश मंत्री वालिद अल-मुआलम का कहना है कि अमरीका के नेतृत्व में दो महीने तक किए गए हवाई हमले इस्लामिक स्टेट (आईएस) चरमपंथियों की जड़ें कमज़ोर करने में विफल रहे हैं.

सितंबर से सीरिया के भीतर इस्लामिक स्टेट पर क़रीब तीन सौ हवाई हमले किए जा चुके हैं.

मुआलम ने लेबनान टीवी से कहा कि आईएस पर नियंत्रण करने का एक ही तरीका था कि तुर्की को सीमा पर नियंत्रण करने और सीरिया में घुस रहे विदेश लड़ाकों को रोकने के लिए दबाव डाला जाए.

उन्होंने कहा कि तुर्की ने उत्तरी सीरिया पर नो फ्लाई ज़ोन की योजना बनाई है जो वास्तव में सीरिया का विभाजन होगा.

इस्लामिक स्टेट ने सीरिया और इराक़ के बड़े हिस्से पर क़ब्ज़ा कर लिया है.

खोती ज़मीन

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अमरीका के नेतृत्व में क़रीब दो महीने तक हवाई हमला किया गया.

मुआलम ने अल-मयादीन टीवी से शुक्रवार को कहा, "सभी संकेत बताते हैं कि दो महीने तक चले गठबंधन हवाई हमलों के बाद भी इस्लामिक स्टेट का दायरा कमज़ोर नहीं हुआ है."

मंत्री ने कहा, "अगर सुरक्षा परिषद (संयुक्त राष्ट्र) और अमरीका तुर्की को अपनी सीमाओं पर नियंत्रण करने के लिए मज़बूर नहीं करते हैं तो इन कार्रवाइयों से इस्लामिक स्टेट का ख़ात्मा नहीं होगा."

तुर्की की सीरिया के साथ 900 किलोमीटर की सीमा है.

अमरीका और उसके सहयोगी दल सीरिया और इराक़ में आईएस को निशाना बना रहे हैं लेकिन उत्तरी सीरिया में अमरीका समर्थित विपक्षी समूह सीरियाई सरकार की सेना और आईएस के हाथों अपनी ज़मीन खो रहे हैं.

इसी बीच सीरिया सरकार के हवाई हमलों में तेज़ी आई है. पिछले छह हफ़्तों के भीतर दो हज़ार से ज़्यादा हवाई हमले किए जा चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार