अमरीका:ज्यूरी के फ़ैसलों पर यूएन की चिंता

इमेज कॉपीरइट Getty

अमरीका में दो काले लोगों की मौत के मामले में गोरे पुलिस अफसर पर मुकदमा न चलाने के मामले में संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार विशेषज्ञों ने वैधानिक चिंता जताई है.

संयुक्त राष्ट्र ने अपने एक बयान में कहा है कि ये अल्पसंख्यक पीड़ितों के मामलों से बचने का एक व्यापक तरीका है.

वहीं एक अन्य निहत्थे व्यक्ति के पुलिस के हाथों मारे जाने का मामला ग्रैंड ज्यूरी को सौंपा गया है.

इस बीच अमरीका में एरिक गार्नर मामले के विरोध में हज़ारों लोगों ने सड़कों पर निकलकर प्रदर्शन किया है. न्यूयॉर्क में बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी पुलिस मुख्यालय और कई अन्य जगहों पर इकट्ठे होकर नारे लगा रहे थे. एरिक गार्नर काले समुदाय के थे और पुलिस से हुई तनातनी में उनकी मौत हो गई थी.

प्रदर्शन

टाइम्स स्क्वेयर पर स्थिति काफी तनावपूर्ण हो गई और पुलिस ने बड़े पैमाने पर लोगों को गिरफ्तार किया.

एक प्रदर्शनकारी महिला ने कहा, "हम यहां खड़े थे और शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे थए. और तभी पुलिस ने हम लोगों को लाइन में लगाकर धक्का देना शुरू कर दिया. वे हमें अभी भी धक्का दे रहे हैं जबकि हम शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे हैं."

वहीं एक अन्य प्रदर्शनकारी का कहना था, "इन सिपाहियों को देखो. ये एक शांतिपूर्ण प्रदर्शन कहा जा रहा है. मेयर ने खुद कहा है कि हम लोग यहां इकट्ठे हो सकते हैं और प्रदर्शन कर सकते हैं क्योंकि हम लोग किसी तरह का व्यवधान नहीं पहुंचा रहे हैं. लेकिन आप देख सकते हैं हकीकत में यहां क्या हो रहा है. ये लोग हमें धक्का दे रहे हैं, लोगों को मार रहे हैं. हमें बिना कोई कारण बताए गिरफ्तार कर रहे हैं..".

बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों को देखते हुए न्यू यॉर्क के मेयर ने 22 हज़ार अतिरिक्त पुलिस कर्मियों को तैनात करने का आदेश दिया है ताकि स्थिति शांतिपूर्ण बनी रहे और प्रदर्शनकारियों से संवाद भी कायम रह सके,