मोदी और शरीफ़ से मलाला मायूस

इमेज कॉपीरइट AFP

बुधवार को शांति का नोबेल पुरस्कार पाने जा रहे भारत के बाल अधिकार कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी और पाकिस्तान की मलाला युसूफ़ज़ई ने दुनिया भर के बच्चों के अधिकार सुनिश्चित करने पर ज़ोर दिया.

मंगलवार को ओस्लो में एक साझा प्रेस कांफ्रेस में कैलाश सत्यार्थी ने कहा, "जब तक दुनिया का एक बच्चा भी ख़तरे में है, पूरी दुनिया ख़तरे में है."

भारत में बाल मज़दूरी के ख़िलाफ़ मुहिम चलाने वाले सत्यार्थी ने कहा कि मलाला यूसुफ़ज़ई के साथ साझा तौर पर शांति का नोबेल पुरस्कार जीतना उनके लिए गर्व की बात है.

मलाला विश्व स्तर पर उस समय चर्चा में आई जब पाकिस्तान के कबायली इलाकों में लड़कियों की शिक्षा के लिए मुहिम चलाने पर उन्हें अक्तूबर 2012 में तालिबान के हमले का शिकार होना पड़ा.

'कामयाबी का राज़़'

इमेज कॉपीरइट The Nobel Foundation
Image caption नोबेल पुरस्कार को दुनिया का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार माना जाता है

मलाला ने कहा कि उनकी इच्छा थी कि जब उन्हें शांति का नोबेल पुरस्कार दिया जाए तो भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री वहां एक साथ मौजूद हों, लेकिन ऐसा संभव होता नहीं दिख रहा है.

उन्होंने कहा, "मेरी इच्छा थी कि दोनों प्रधानमंत्री आएं...अभी तो मुझे दोनों तरफ़ से कोई पुष्टि नहीं मिली है और समारोह कल है. तो इसका मतलब यही है कि कोई सकारात्मक जवाब नहीं आया है."

मलाला ने कहा, "दोनों देशों के बीच शांति हो क्योंकि इसी में दोनों के विकास का राज़ है और इसी तरह ही हम कामयाब हो सकते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार