पोप ने दलाई लामा से मिलने से मना किया

पोप फ्रांसिस इमेज कॉपीरइट AP

पोप फ्रांसिस ने तिब्बत के निर्वासित आध्यात्मिक नेता दलाई लामा से निजी मुलाक़ात करने से मना कर दिया है.

वेटिकन ने चीन के साथ 'नाज़ुक स्थिति' को इसकी वजह बताया है.

नोबेल शांति पुरस्कार विजेताओं से मिलने रोम पहुंचे दलाई लामा ने पोप फ्रांसिस से मुलाक़ात की इच्छा जताई थी.

दलाई लामा ने कहा है कि पोप फ्रांसिस के मना करने से उन्हें निराशा हुई है लेकिन वे किसी असुविधा की वजह नहीं बनना चाहते हैं.

दलाई लामा का नोबेल शांति पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी और मलाला यूसुफ़ज़ई से दक्षिण अफ्रीका में मुलाक़ात का कार्यक्रम था. लेकिन दक्षिण अफ्रीका ने दलाई लामा को वीज़ा देने से मना कर दिया. इसके बाद मुलाक़ात के लिए रोम को चुना गया.

चीन से संबंध सुधारने की क़वायद

इमेज कॉपीरइट AFP

किसी पोप और दलाई लामा के बीच आख़िरी मुलाक़ात वर्ष 2006 में हुई थी. तब पोप बेनेडिक्ट सोलहवें ने दलाई लामा से भेंट की थी.

वेटिकन चीन के साथ अपने संबंधों को सुधारना चाहता है जहां रोमन कैथोलिक समुदाय दो हिस्सों में बंटा हुआ है.

एक हिस्से को आधिकारिक तौर पर मान्यता मिली हुई है जो कम्युनिस्ट पार्टी के प्रति जबावदेह है.

चीन में रोमन कैथोलिक समुदाय का दूसरा हिस्सा भूमिगत संगठन की शक्ल में है जो केवल पोप के प्रति वफ़ादार है.

चीन दलाई लामा को एक अलगाववादी नेता के तौर पर देखता है और किसी विदेशी नेता से उनकी मुलाक़ात पर तीखी प्रतिक्रिया देता रहा है.

दलाई लामा को वर्ष 1959 में भागकर भारत में शरण लेनी पड़ी थी. तब चीनी सैनिकों ने तिब्बत में विरोध के स्वरों को दबा दिया था.

संबंधित समाचार