सिडनी के बंधकों में इंफ़ोसिस कर्मचारी भी

इमेज कॉपीरइट EPA

भारत सरकार ने कहा है कि सिडनी के एक कैफे में बंधक बनाए गए लोगों में एक भारतीय भी शामिल है.

आईटी कंपनी इंफ़ोसिस ने पुष्टि की है कि बंधकों में उनका एक कर्मचारी शामिल है.

कंपनी के प्रवक्ता के मुताबिक सिडनी के कैफे में कैद बंधकों में एक भारतीय उनका कर्मचारी है..

प्रवक्ता ने बताया कि सिडनी में कार्यरत कंपनी के सभी कर्मचारियों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है.

इससे पहले संसदीय कार्य मंत्री वैकेया नायडू ने सिडनी के बंधकों में एक भारतीय के होने की पुष्टि की थी. उन्होंने कहा था कि भारतीय बंधक एक आईटी प्रोफ़ेशनल है.

सोमवार को सिडनी के मार्टिन प्लेस के लिंट कैफ़े में एक बंदूकधारी ने कुछ लोगों को बंधक बना लिया था, जिसमें से अब तक पांच लोग बाहर आ चुके हैं.

इसके बाद सिडनी शहर में स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास को ख़ाली करा दिया गया है.

सभी कर्मचारी बाहर

सिडनी में डिप्टी काउंसिल जनरल डॉक्टर वियोंड बहाडे ने बीबीसी हिंदी को फ़ोन पर बताया कि भारतीय वाणिज्य दूतावास लिंट कैफ़े से लगभग 400 मीटर दूर है.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption लिंट कैफ़े के आसपास के इलाके में सुरक्षाबलों ने घेराबंदी कर ली है

उन्होंने कहा, "सुबह पुलिस ने आसपास की सभी इमारतों को खाली कराया है. इसके बाद वाणिज्य दूतावास के सभी 35 कर्मचारी एक जगह जमा हुए और दूतावास को खाली किया."

बहाडे ने बताया कि भारत से कुछ फ़ोन कॉल्स आ रही हैं, जो सिडनी में रह रहे अपने परिजनों को लेकर चिंतित हैं.

उन्होंने कहा, "अभी ऑपरेशन चल रहा है, हम पुलिस अधिकारियों के लगातार संपर्क में बने हुए हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार