पेशावर: ट्विटर पर 'भारत का विरोध' भी

इमेज कॉपीरइट Reuters

पाकिस्तान के शहर पेशावर में बुधवार को हुए हमले के बाद जहाँ भारत में #IndiawithPakistan ट्रेंड करता रहा वहीं पाकिस्तान में #StopIndianTerrorismInPak ट्रेंड चलाने की कोशिश हुई.

इस ट्रेंड का मतलब था कि 'पाकिस्तान में भारतीय आतंकवाद रोका जाए'.

इसके तहत जहाँ पेशावर में हुए चरमपंथी हमले के लिए कुछ लोग भारत को ज़िम्मेदार ठहरा रहे हैं वहीं इस ट्रेंड में ऐसे लोग भी हैं जो ये ट्रेंड चलाने वालों की आलोचना कर रहे हैं.

रॉ पर आरोप

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

हसन लाशारी (@lasharis21) ख़ुद को 'नया पाकिस्तान' के मक़सद में लगा व्यक्ति बताते हैं. उन्होंने लिखा है, "#IndiaWithPakistan- हम देख सकते हैं, पहले वे हमारी हत्या करते हैं और फिर इस तरह की सहानुभूति जताते हैं."

इमेज कॉपीरइट Getty

इमरान ख़ान पीटीआई नाम रखकर @imNayaPakistan ट्विटर अकाउंट से हुए ट्वीट में लिखा है, "पाकिस्तान के लिए सबसे बड़ा ख़तरा भारत है और हमारे कथित प्रधानमंत्री उन्हें आम तोहफ़े में देते हैं."

अब्दुल हनान (@HananPTI) ने काफ़ी पहले ट्वीट किया था, "भारत फ़र्ज़ी टीटीपी (तहरीके तालिबान पाकिस्तान) को समर्थन और पाकिस्तान में आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है. चलिए रॉ (भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी) को एक्सपोज़ किया जाए और #StopIndianTerrorismInPak हैशटैग का इस्तेमाल किया जाए."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

सना ख़ान ने पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ़ का एक वीडियो ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है, "भरोसा नहीं होता कि हम #IndiawithPakistan को ट्रेंड कर रहे हैं. रॉ का और काम ही क्या है पाकिस्तान को कमज़ोर करने के सिवाय."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पाकिस्तान वेकअप (@NewPakistan202) नाम से एक ट्विटर अकाउंट है, इसमें ख़ुद को एक पत्रकार बताने वाली महिला लिखती हैं, "सीआईए और रूस ने भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित कुमार को कल पेशावर में हुए आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड के रूप में पहचाना है."

इसके अलावा अहमद क़ुरैशी (@AQpk) ट्वीट करते हैं, "भारत की ओर से संवेदना के जो बयान आ रहे हैं वो ठीक हैं पर काफ़ी नहीं हैं. भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी सीधे तौर पर अफ़ग़ानिस्तान में पाकिस्तान विरोधी आतंकवाद को समर्थन दे रही हैं."

ट्रेंड से नाराज़गी

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

वैसे कराची के तनवीर हुसैन (@TanvirH) ने इस ट्रेंड से नाराज़गी भी जताई है. उन्होंने लिखा, "मारे गए लोगों के लिए शोक जताने और उनके परिजनों को मदद के बजाए कुछ लोग ये ट्रेंड चला रहे हैं. कृपया इसे बंद कीजिए."

तलहा ज़रीफ़ (@TalhaZareef) लिखते हैं, "ठीक जब मैं ये सोच रहा था कि इस घटना के बाद पाकिस्तान के लोग इससे सीख लेंगे, मैंने ये ट्रेंड देखा. उफ़.."

पाकिस्तान में पत्रकारिता पढ़ रहीं इमान शेख़ (@SheikhImaan) ने लिखा, "मानवता के लिए कृपया हम बाक़ी पाकिस्तानियों को शर्मसार करना बंद कीजिए और इस हैशटैग के तहत नफ़रत वाले ट्वीट मत कीजिए."

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री ने मोदी की तारीफ़ की है

जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्लाह ने इस हमले को लेकर किए ट्वीट में कहा, "@ImranKhanPTI वाकई? तालिबान के इसकी ज़िम्मेदारी लेने के बावजूद आप उनका नाम नहीं लेंगे? विश्वास नहीं होता कि लोग आपसे उम्मीद लगाए थे. इसके अलावा जो पाकिस्तानी #StopIndianTerrorismInPak ट्रेंड करा रहे हैं, आपको भी शर्म आनी चाहिए."

अब्दुल्लाह ने भारत के स्कूलों में दो मिनट का मौन रखने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील की तारीफ़ भी की है.

मगर इस ट्रेंड से ऊपर पाकिस्तान में भी #IndiawithPakistan ट्रेंड कर रहा है जिसमें इस दुख की घड़ी में भारत और पाकिस्तान को साथ बताया जा रहा है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉयड मोबाइल ऐप से जुड़ने के लिए क्लिक करें. आप हमसे फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ सकते हैं.)

संबंधित समाचार