59 तालिबानी चरमपंथियों को मारने का दावा

इमेज कॉपीरइट EPA

पाकिस्तान की सेना का कहना है कि तालिबान ठिकानों पर ज़मीनी और हवाई हमलों में कम से कम 59 चरमपंथी मारे गए हैं. ये हमले अफ़गानिस्तान से सटे सीमावर्ती इलाकों में किए गए.

ये हमला ऐसे समय में हुआ है जब कुछ ही दिन पहले पेशावर में तालिबान ने एक आर्मी स्कूल पर हमला कर के 141 लोगों को मार दिया था जिसमें ज़्यादातर बच्चे शामिल थे.

इस घटना के बाद सेना ने खैबर और उत्तरी वज़ीरिस्तान इलाक़े में चरमपंथियों के खिलाफ़ तेज़ कर दिया है.

हालांकि उत्तरी वज़ीरिस्तान में जून के महीने से ही चरमपंथियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई चल रही है.

इस हफ़्ते के अभियान में ज़मीनी हमले भी किए गए और पाकिस्तानी विमानों की मदद से 20 हवाई हमले भी हुए हैं.

गुरुवार की रात को अफ़ग़ानिस्तान सीमा से सटी तिराह घाटी में किए गए हमले में 32 चरमपंथी मारे गए.

जून से चल रहा है हमला

इमेज कॉपीरइट EPA

सेना का कहना है कि जून में शुरू हुई कार्रवाई में अब तक 1700 से अधिक चरमपंथी मारे जा चुके हैं.

हालांकि सेना के दावों की पुष्टि करना मुश्किल है क्योंकि कई इलाक़े आम लोगों और स्वतंत्र मीडिया की पहुंच से दूर हैं.

जून में सेना की कार्रवाई तब शुरू हुई थी जब तालिबान ने कराची में व्यस्त एयरपोर्ट पर हमला किया था और 38 लोगों को मार दिया था. मरने वालों में हमलावर भी शामिल थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)