शियोमी बनी सबसे मूल्यवान टेक स्टार्ट-अप

शियोमी फ़ोन इमेज कॉपीरइट Getty

चीन की स्मार्टफ़ोन निर्माता शियोमी अपनी स्थापना के महज़ चार साल के अंदर ही दुनिया की सबसे कीमती टेक्नोलॉजी स्टार्ट-अप बन गई है.

फंडिंग के ताज़ा दौर में चीन की कंपनी ने 1.1 अरब डॉलर (69.80 अरब रुपये से ज़्यादा) जुटाए जिससे इसका मूल्य 45 अरब डॉलर (28.52 ख़रब रुपये से ज़्यादा) हो गया.

अब यह 40 अरब डॉलर मूल्य के टैक्सी बुकिंग ऐप ऊबर से आगे निकल गई है.

'शानदार परिणाम'

शियोमी बहुत तेज़ी से दुनिया के सबसे बड़े फ़ोन निर्माताओं के स्तर तक पहुंची है और यह बिक्री में सिर्फ़ सैमसंग और ऐप्पल से ही पीछे है.

इमेज कॉपीरइट XIAOMI

कंपनी जनवरी में एक नया फ़्लैगशिप उपकरण लाँच करने वाली है.

शियोमी के सह-संस्थापक और अध्यक्ष बिन लिन ने एक फ़ेसबुक पोस्ट में बताया कि फ़र्म के निवेशकों में प्राइवेट इक्विटी फंड ऑल-स्टार्स इनवेस्टमेंट, डीएसटी ग्लोबल, होपु इनवेस्टमेंट मैनेजमेंट, युनफ़ेंग कैपिटल और सिंगापुर सोव्रिन वेल्थ फंड जीआईसी शामिल हैं.

उन्होंने कहा, "यह चार साल में शियोमी के शानदार परिणामों की पुष्टि है और कंपनी के विस्तार का संदेश देता है."

शियोमी की सस्ते फ़ोन लाने की रणनीति ने इस साल दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था चीन में बिक्री के मामले में इसे सैमसंग से आगे कर दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)