जापानः जन्म दर और गिरी

जापानी महिला इमेज कॉपीरइट AFP

जापान में साल 2014 में जन्म लेने वाले बच्चों की तादाद काफ़ी कम रही.

सरकार के मुताबिक साल 2014 में 2013 की तुलना में 9000 कम बच्चों ने जन्म लिया. साल 2014 में नवजात शिशुओं की संख्या घट कर 10 लाख हो गई.

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक नवजात शिशुओं की संख्या में कमी पिछले चार साल से लगातार हो रही है.

एक अनुमान के अनुसार जापान में मृत्यु दर में आई गिरावट के कारण ऐसा हो रहा है. पिछले साल जापान में मृतकों की तादाद मात्र 13 लाख दर्ज की गई.

कुछ अन्य अनुमानों के अनुसार साल 2050 तक जापान की आबादी घटकर नौ करोड़ 70 लाख से तीन करोड़ के बीच हो सकती है.

साल 2010 में जापान की आबादी सबसे ज़्यादा 12 करोड़ थी और तब से यह गिर ही रही है.

5 संभावित कारण

इमेज कॉपीरइट AFP

जापान में आबादी घटने के पीछे कई संभावनाएं जताई गई हैं. जैसे कि

1- बच्चों के जन्म और पालन-पोषण का बढ़ता खर्च

2- कामकाजी महिलाओं की बढ़ती तादाद

3- अधिक उम्र में शादी

4- अविवाहितों की बढ़ती आबादी

5- घर के माहौल और समाजिक रीति-रिवाजों में बदलाव

अस्तिव का संकट

इमेज कॉपीरइट r

जानकारों ने आगाह किया है कि तेज़ी से घट रही आबादी से जापान को कई तरह के नुकसान हो सकते हैं.

जैसे 15 से 64 साल की उम्र के लोगों की आबादी घटने से जापान के सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी और विकास दर पर बुरा असर पड़ेगा.

यदि ऐसा हुआ तो पेंशन व्यवस्था ही नहीं, समाजिक कल्याण के कई दूसरी महत्वपूर्ण नीतियों पर बुरा असर पड़ सकता है.

जहां तक ग्रामीण इलाकों की बात है तो यहां ख़ास किस्म की परेशानियां सामने आ सकती हैं. कुछ समुदायों को अस्तित्व के संकट का सामना करना पड़ सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption आबादी कम होने के पीछे कामकाजी महिलाओं की बढ़ती तादाद भी एक कारण है.

'क्योडो न्यूज' ने स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी के हवाले से बताया है कि बच्चों की संख्या में गिरावट लाज़मी है क्योंकि महिलाओं की प्रजनन-आयु घट रही है.

सरकार ने सचेत किया है कि साल 2060 तक 65 साल या इससे अधिक उम्र के लोगों की संख्या तकरीबन 40 फीसदी तक पहुंच सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार