ब्रितानी प्रिंस पर नाबालिग़ से सेक्स के आरोप

इमेज कॉपीरइट AFP

ब्रिटेन की महारानी के कार्यालय ने उन आरोपों को पूरी तरह बेबुनियाद बताया है जिनमें महारानी एलिज़ाबेथ के बेटे प्रिंस एंड्र्यू पर एक नाबालिग़ से यौन संबंध बनाने का इल्ज़ाम है.

अमरीका में एक अदालत के सामने पेश दस्तावेज़ों में ये आरोप सामने आए जिन्हें प्रिंस एंड्र्यू के पूर्व दोस्त और यौन अपराध के दोषी जैफ़्रे एप्सटीन के मामले में अदालत में रखा गया था.

अमरीकी अदालत के दस्तावेज़ों में नाम आने के बाद बकिंघम पैलेस ने प्रिंस एंड्र्यू द्वारा 'किसी भी नाबालिग़ के साथ अनुचित काम करने' की बात से इनकार किया है.

फ़्लोरिडा की अदालत में एक महिला की तरफ़ से दाख़िल कागज़ों में उनका नाम सामने आया है जिसमें बताया गया है कि जैफ़्रे एप्सटीन पर चले मुक़दमे का ज़िक्र है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption जैफ़्रे एप्सटीन

महिला का दावा है कि 1999 से 2002 के बीच उन्हें एप्सटीन ने प्रिंस के साथ यौन संबंध बनाने को मजबूर किया था और तब वह नाबालिग़ थीं

बकिंघम पैलेस ने कहा है कि वह क़ानूनी मामले पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता.

मगर पैलेस की प्रवक्ता ने कहा, ''यह अमरीका में लंबे समय से चल रहे एक मुक़दमे से जुड़ा है जिसमें यॉर्क के ड्यूक पार्टी नहीं हैं.''

उनका कहना था, "इस पर हम कोई टिप्पणी नहीं करेंगे. हालांकि संदेह दूर करने के लिए हम बताना चाहते हैं कि 'किसी भी नाबालिग़ के साथ अनुचित काम करने' की बात पूरी तरह से ग़लत है."

मामला

यह काफ़ी पेचीदा और पुरानी क़ानूनी कार्रवाई है जो 2011 में एक अमरीकी कारोबारी जैफ़्रे एप्सटीन के ख़िलाफ़ शुरू की गई थी और जिन्हें एक नाबालिग को वेश्यावृत्ति में धकेलने के मामले में 18 महीने क़ैद में बिताने पड़े थे.

तब प्रिंस एंड्र्यू को जैफ़्रे एप्सटीन के साथ अपनी दोस्ती की वजह से माफ़ी मांगनी पड़ी थी.

इन अदालती दस्तावेज़ों में पहली बार एक अज्ञात महिला ने आरोप लगाया है कि उन्हें तीन बार तीन अलग-अलग जगहों पर प्रिंस एंड्र्यू से रिश्ते बनाने को मजबूर किया गया जब वह नाबालिग़ थीं.

इमेज कॉपीरइट Getty

जैफ़्रे एप्सटीन के साथ अपनी दोस्ती की उन्हें भारी क़ीमत चुकानी पड़ रही है जिसे उन्होंने एक समय अपनी सबसे बड़ी ग़लती बताया था.

यह दिलचस्प है कि पहली बार बकिंघम पैलेस ने इस तरह का बयान दिया है जबकि अतीत में पैलेस कभी ऐसे मामलों में नहीं पड़ता था और उम्मीद करता था कि वो अपने आप ही ख़त्म हो जाएंगे.

'आर्थिक लाभ'

महिला ने कहा है कि उन्हें लंदन, न्यूयॉर्क और एप्सटीन के कैरिबियन में मौजूद एक निजी द्वीप पर यौन रिश्ते बनाने को मजबूर किया गया.

ये आरोप फ़्लोरिडा की एक अदालत में इसी हफ़्ते दायर किए गए हैं जो एप्सटीन पर चल रहे उस केस से जुड़े हैं जिनमें बताया गया है कि अभियोजनकर्ताओं ने किस तरह इस मुक़दमे को चलाया.

कोर्ट के इस दस्तावेज़ का ज़िक्र सबसे पहले पॉलिटिको पत्रिका में सामने आए.

इमेज कॉपीरइट

प्रिंस एंड्र्यू एल्बर्ट एडवर्ड क्रिस्शियन बकिंघम पैलेस में 1960 में पैदा हुए थे और महारानी और ड्यूक ऑफ़ एडिनबरा की तीसरी संतान हैं.

उन्होंने रॉयल नेवी में एक हेलीकॉप्टर पायलट के बतौर काम किया और 1982 में फ़ॉकलैंड संघर्ष में हिस्सा लिया. 1986 में साराह फ़र्गसन से विवाह के बाद उनके दो बेटियां हुईं.

नेवी से सेवानिवृत्ति के बाद वह 2001 में ब्रिटेन के कारोबार प्रतिनिधि के बतौर काम करने लगे. 2011 में उन्हें जैफ़्रे एप्सटीन के साथ दोस्ती से उपजे विवाद के बाद इस भूमिका को छोड़ना पड़ा

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार