इस्लामी देशों ने की पेरिस हमले की निंदा

पेरिस हमला इमेज कॉपीरइट AP

पेरिस में व्यंग्य पत्रिका 'शार्ली एब्डो' पर हमले के बाद दुनिया भर से वरिष्ठ नेताओं के शोक संदेश और तीखी प्रतिक्रिया का सिलसिला जारी है.

इसके साथ ही इस्लामिक देशों ने भी आधिकारिक बयान जारी कर हमले की निंदा की और पीड़ितों के परिजनों के लिए अपनी संवेदना व्यक्त की.

इंडोनेशिया

इंडोनेशिया की सरकार ने आधिकारिक बयान जारी करते हुए फ्रांसीसी पत्रिका के दफ़्तर पर हुए हमले की घोर निंदा की है.

बुधवार की रात को विदेश मंत्रालय की ओर से वीआईवीए न्यूज़ को जारी एक बयान में सरकार और फ्रांस के लोगों, ख़ासकर पीड़ितों के परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की गई है.

विदेश मंत्रालय ने कहा, "इंडोनेशिया सरकार फ्रांसीसी सरकार के साथ है और वह हमले के दोषियों को पकड़ने के प्रयासों में हर संभव मदद करेगी."

अरब लीग और अल-अज़हर

सुन्नी इस्लामियों के सबसे महत्वपूर्ण केंद्र अरब लीग और अल-अज़हर ने व्यंग्य पत्रिका पर बुधवार को हुए हमले की निंदा की.

अरब लीग ने एक बयान में कहा, "अरब लीग प्रमुख नबील अल-अरबी शार्ली एब्डो पत्रिका पर हुए चरमपंथी हमले की 'भर्त्सना' करता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

अल-अज़हर ने ये कहते हुए हमले की निंदा की है कि "इस्लाम में किसी भी तरह की हिंसा की जगह नहीं है."

सऊदी अरब

सऊदी प्रेस एजेंसी के मुताबिक़ सऊदी अरब सरकार ने फ्रांसीसी व्यंग्य पत्रिका के दफ़्तर पर हुए हमले की आलोचना की है जिसमें 12 लोगों की मौत हो गई है.

सरकारी एजेंसी ने एक अधिकारी के हवाले से कहा, “सऊदी अरब चरमपंथियों की इस कायरतापूर्ण कार्रवाई की निंदा करता है. इस्लाम या कोई भी दूसरा धर्म इन बातों की इजाज़त नहीं देता.”

क़तर

इमेज कॉपीरइट AFP

खाड़ी देश क़तर ने पेरिस हमले को चरमपंथी हमला बताया है और इसकी कड़ी आलोचना की है.

देश के विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, "निहत्थे नागरिकों को निशाना बनाने वाली ऐसी कोई भी कार्रवाई सभी सिद्धांतों और मानवीय मूल्यों के ख़िलाफ़ है."

क़तर ने फ्रांसीसी सरकार और पीड़ितों के परिवार को संवेदना संदेश भेजा है. हालांकि क़तर पर लीबिया और सीरिया जैसे अरब देशों में परेशानी खड़ा करने वाले कट्टरपंथी इस्लामी गुटों के समर्थन करने का आरोप लगता रहा है.

ईरान

इमेज कॉपीरइट AP

ईरान सरकार ने हमले को पूरी तरह से निंदनीय और क्रूर बताया है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मरजेह अफ़ख़म ने सरकारी समाचार एजेंसी आईआरएनए को बताया, "निर्दोष लोगों पर की जाने वाली सभी कार्रवाई इस्लाम के सिद्धांत और सीख के विपरीत है."

उन्होंने शार्ली एब्डो पर हुए हमले को 'कट्टरपंथ की लहर' का हिस्सा बताया.

इराक़

इराक़ के प्रधानमंत्री हैदर अल-अबादी ने साप्ताहिक व्यंग्य पत्रिका पर हुए घातक हमले की आलोचना की और कहा कि इससे चरमपंथियों के ख़िलाफ़ एकजुट होने की ज़रूरत एक बार फिर से रेखांकित होती है.

इमेज कॉपीरइट AFP

उनकी तरफ़ से जारी एक बयान में कहा गया है, "इससे साबित हो जाता है कि आतंकवाद से न केवल इराक़ बल्कि पूरी दुनिया को ख़तरा है."

उन्होंने आगे कहा कि अब पूरी दुनिया को एकजुट होकर आतंकवाद से मुठभेड़ करने की ज़रूरत है.

फ्रांस इराक़ में आईएस चरमपंथियों के ख़िलाफ़ अमरीकी नेतृत्व में हो रहे हवाई हमलों में सहयोगी की भूमिका में है.

मोरक्को

इमेज कॉपीरइट AFP

मोरक्को सरकार ने पेरिस की व्यंग्य पत्रिका पर हुए हमले की कड़ी निंदा करते हुए पीड़ितों के प्रति श्रद्धांजलि व्यक्ति की है उनके परिवार के प्रति एकजुटता ज़ाहिर की है.

जॉर्डन

जॉर्डन सरकार के प्रवक्ता मोहम्मद अल मोमानी ने कहा कि यह हमला 'इस्लाम के उसूलों और मूल्यों पर हमला' है.

उन्होंने आगे कहा कि जॉर्डन, हमले में मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति अपनी संवेदना ज़ाहिर करता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)