सऊदी अरब: ब्लॉगर को कोड़ों की सज़ा

सऊदी ब्लॉगर इमेज कॉपीरइट TWITTER

सऊदी अरब के एक ब्लॉगर और सामाजिक कार्यकर्ता रैफ़ बदावी को कोड़े मारे जाने की ख़बर पर लाखों ट्वीट आए हैं.

बहुत से लोगों ने रैफ़ को दी गई सज़ा की निंदा की तो कुछ ने और ज़्यादा सज़ा दिए जाने के पक्ष में ट्वीट किया.

अरबी में दो हैशटेग ट्रैंड कर रहे हैं, ''रैफ़ बदावी की सार्वजनिक सज़ा'' और ''रैफ़ बदावी को सज़ा''.

इन हैशटैग पर लगभग 2,50,000 लोगों ने ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी.

ये सिलसिला बदावी को कोड़े मारे जाने की घोषणा होने के बाद शुरू हुआ है.

इमेज कॉपीरइट
Image caption सऊदी अरब के ब्लॉगर रैफ़

बदावी को जून 2012 में गिरफ़्तार किया गया था. उन्हें 10 साल क़ैद और 1000 कोड़े मारे जाने की सज़ा दी गई थी.

बदावी पर अपनी वेबसाइट ''सऊदी लिबरल नेटवर्क'' पर इस्लाम का अपमान करने, साइबर अपराध और अपने पिता के अवहेलना करने के आरोप थे. यह वेब साइट अब बंद कर दी गई है.

इस सज़ा की अमरीका और मानवाधिकार संस्थाओं ने निंदा की थी.

सऊदी अरब इस्लामी क़ानून का कड़ाई से पालन करता है और यहां धर्म के बारे में खुली चर्चा करने से लोग बचते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार