'इस्लाम और घिनौने काम में समझे फ़र्क़'

पेरिस संदिग्ध इमेज कॉपीरइट BBC World Service

फ्रांस की राजधानी पेरिस के एक सुपरमार्केट में लोगों को बंधक बनाने वाले बंदूकधारी के परिजनों ने देश में हुए चरमपंथी हमलों की निंदा की है.

फ्रांस की समाचार एजेंसी को जारी किए गए एक बयान में अमिदी कॉलिबली की मां और बहनों ने मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति अपनी संवेदना जाहिर की है.

कॉलिबली शुक्रवार को पुलिस की कार्रवाई में मारे गए थे.

उनकी मां और बहनों ने कहा है कि वे इस्लाम के प्रति कट्टरपंथी सोच रखने वालों से इत्तिफाक नहीं रखतीं.

फ़र्क़

वे उम्मीद करती हैं कि लोग इस्लाम धर्म और इस हमले, जिन्हें वे 'घिनौना काम' बताती हैं, के बीच के फ़र्क़ को समझेंगे.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अमिदी कॉलिबली पुलिस की कार्रवाई में मारे गए.

कॉलिबली ने पूर्वी पेरिस के एक यहूदी सुपरमार्केट में कई लोगों को बंधक बनाकर रखा और चार बंधकों की हत्या भी कर दी.

स्टोर में काम करने वाले माली के एक युवक ने सात लोगों को कोल्ड स्टोरेज में छिपाकर उनकी जान बचाई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार