सुविधाओं में कटौती से क्रांतिकारी नाराज़

रोमानिया में 1989 की क्रांति में शामिल आम लोग इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption रोमानिया में 1989 की क्रांति में तानाशाह निकोलाई चाउशेस्की के सत्ता से बेदखल होने के बाद आम लोग.

रोमानिया में साल 1989 में हुई क्रांति में शामिल लोगों की सुविधाओं में कटौती के सरकार के फ़ैसले का ज़बर्दस्त विरोध हो रहा है.

बाल्कन इनसाइट वेबसाइट के अनुसार देश में क़रीब 22,000 लोगों के पास इस क्रांति में शामिल होने का प्रमाणपत्र हैं.

इन लोगों को मुफ़्त रेल यात्रा, कर में छूट जैसी कई सुविधाएँ प्राप्त हैं. इनमें से क़रीब 6000 लोगों को लगभग 31 हज़ार रुपए का मासिक भत्ता भी मिलता है.

रोमानिया सरकार ने इस भत्ते को दिसंबर में रोक दिया था और कहा था कि भत्ते के लिए इन लोगों को अब एक नया प्रमाणपत्र पेश करना होगा जिसमें उनके क्रांति में 'महत्वपूर्ण भूमिका' निभाने की बात लिखी होनी चाहिेए.

वापस लेना होगा क़ानून

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption दिसंबर, 1989 में हुई क्रांति में आम नागरिकों ने सैनिकों के साथ मिलकर लड़ाई लड़ी थी.

विरोध कर रहे एक नेता ने बाल्कन इनसाइट वेबसाइट से कहा, "सरकार को यह क़ानून वापस लेना होगा. इसकी वज़ह से कई क्रांतिकारी जीविकाविहीन हो जाएंगे."

सरकार के फ़ैसले का विरोध कर रहे एक प्रदर्शनकारी नेता ने कहा, "हम में से सात लोग पहले से ही भूख हड़ताल पर हैं. हमने विरोध को जारी रखने का फ़ैसला किया है."

दिसंबर में रोमानिया में क्रांति की 25वीं वर्षगांठ मनाई गई. 1989 में हुई क्रांति में क़रीब 1100 लोग मारे गए थे.

कम्यूनिस्ट तानाशाह

क्रांति में कम्यूनिस्ट तानाशाह निकोलाई चाउशेस्कू सत्ता से बेदखल हुए थे. 1989 में क्रिसमस के दिन उन्हें और उनकी पत्नी को मार दिया गया था.

ज़्यादातर मौतें चाउशेस्कू के सत्ता से बेदखल होने के बाद सार्वजनिक स्थानों पर हुई मुठभेड़ों में हुईं. इन मुठभेड़ों में 900 से ज़्यादा लोग मारे गए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार