फज़लुल्लाह अमरीका की चरमपंथी सूची में

मौलाना फज़लुल्लाह इमेज कॉपीरइट EPA

अमरीका के विदेश मंत्रालय ने मौलाना फज़लुल्लाह को चरमपंथियों की सूची में डाल दिया है.

अमरीकी सरकार की इस घोषणा के बाद कोई भी व्यक्ति फज़लुल्लाह के साथ किसी भी तरह का लेनदेन नहीं कर सकेगा और अमरीका स्थित उनकी किसी भी तरह की संपत्ति को जब्त कर लिया जाएगा.

मौलाना फज़लुल्लाह को 2013 में हकीमुल्लाह महसूद की मौत के बाद तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान का कमांडर चुना गया था.

विदेश मंत्रालय ने सितंबर 2010 में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान को अंतरराषट्रीय चरमपंथी संगठन घोषित किया था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

फज़लुल्लाह के नेतृत्व वाले तहरीक-ए-तालिबान ने 16 दिसंबर 2014 को पेशावर के एक स्कूल पर हुए हमले की जिम्मेवारी ली है.

इस हमले में कम से कम 148 बच्चे और स्कूल शिक्षक मारे गए थे.

तहरीक-ए-तालिबान का कमान संभालने से पहले फज़लुल्लाह ने पाकिस्तानी सेना के मेजर जनरल सनाउल्लाह नियाज़ी की हत्या और स्कूली छात्रा मलाला यूसूफज़ेई को गोली मारने में शामिल होने की बात कबूली थी.

फज़लुल्लाह ने 17 पाकिस्तानी सैनिकों के सर कलम किए हैं और तालिबान के साथ शांति प्रयास में शामिल लोगों को मारने का फरमान जारी किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार