फ़्रांस पर 'साइबर जिहादियों' के हमले

फ्रांस के वाइस एडमिरल इमेज कॉपीरइट Getty

फ़्रांस में इस्लामी चरमपंथियों के साइबर हमले की धमकियों के एक दिन बाद कई मीडिया वेबसाइटें ठप हो गई.

साइबर हमले में प्रभावित होने वाली वेबसाइटों में ले पेरिसियन, मैरियान और 20 मिनट्स जैसी वेबसाइटें भी शामिल हैं.

हालांकि ज़्यादातर वेबसाइटें साइबर हमले के थोड़े ही समय बाद फिर से शुरू भी हो गईं.

फ़्रांस सरकार का कहना था कि पेरिस में हुए चरमपंथी हमले के बाद से क़रीब 20,000 वेबसाइटों को निशाना बनाया गया था.

पेरिस में पिछले हफ़्ते हुए चरमपंथी हमले में 17 लोगों की मौत हो गई थी.

गुरुवार को फ़्रांस की सेना के साइबर सुरक्षा प्रमुख वाइस एडमिरल आरनॉड कॉस्टिलियरे ने कहा था कि 20,000 वेबसाइटों पर हुए साइबर हमले में कुछ 'संगठित' समूह और 'जाने-माने जिहादी हैकरों' का हाथ है. हालांकि उन्होंने कोई ब्योरा नहीं दिया था.

हमला

इमेज कॉपीरइट
Image caption फ़्रांस की ले पेरिसियन वेबसाइट दिखा यह संदेश .

वाइस एडमिरल ने यह भी कहा कि यह हमला रविवार को पेरिस में हुए मार्च के ख़िलाफ़ हो सकता है.

उनके मुताबिक़ साइबर हमले के शुरुआती चरण में फ्रांस की आर्मी रेजिमेंट और रक्षा मंत्रालय को निशाना बनाया गया जिसकी वजह से कड़ी सुरक्षा व्यवस्था का फ़ैसला किया गया है.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के मुताबिक़ शुक्रवार को प्रभावित वेबसाइटों में एल' एक्सप्रेस, मीडियापार्ट और फ्रांस इंफो भी शामिल हैं.

यह ख़बर तब आई जब यह घोषणा की गई कि चरमपंथी हमले का शिकार बनी व्यंग्य पत्रिका 'शार्ली एब्डो' ने अपना नया संस्करण स्मार्टफ़ोन ऐप के ज़रिए पेश किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार