कैमरनः धार्मिक आस्था को कर सकते हैं आहत

'दूसरे के धर्म का मज़ाक़ उड़ाना ग़लत नहीं' इमेज कॉपीरइट Reuters

ब्रितानी प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा है कि एक स्वतंत्र समाज में किसी व्यक्ति को दूसरे की धार्मिक आस्था को आहत करने का अधिकार है.

कैमरन ईसाई धर्मगुरु पोप फ़्रांसिस के उस बयान पर प्रतिक्रिया दे रहे थे जिसमें पोप ने कहा था कि अभिव्यक्ति की आज़ादी का मतलब किसी की आस्था का अपमान करना नहीं है.

अमरीका के सीबीएस टेलीविज़न नेटवर्क से बातचीत के दौरान कैमरन ने कहा कि मीडिया को ऐसी ख़बरें प्रकाशित करने का अधिकार होना चाहिए, बशर्ते वो क़ानून के दायरे में हों.

घूंसा भी पड़ सकता है

पेरिस स्थित फ़्रांसीसी व्यंग्य पत्रिका शार्ली एब्डो के दफ़्तर पर हुए हमले पर प्रतिक्रिया देते हुए पोप फ्रांसिस ने कहा था कि अगर कोई किसी की मां का अपमान करता है तो उसे घूंसा भी पड़ सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty

पोप फ़्रांसिस ने कहा था कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का संरक्षण ज़रूरी है लेकिन इसके नाम पर किसी धर्म का मज़ाक़ उड़ाना ग़लत है.

पिछले हफ़्ते फ्रांस में हुए चरमपंथी हमलों में 17 लोग मारे गए थे. जिनमें से 12 लोग शार्ली एब्डो पत्रिका के दफ़्तर पर हुए हमले में मारे गए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार