विश्वयुद्ध में जब नाज़ी आराम फरमा रहे थे

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जर्मन सैनिक इमेज कॉपीरइट BBC World Service

दूसरे विश्व युद्ध के दौरान जब हर तरफ रक्तपात, साजिश और संघर्ष का माहौल था तो ये अंदाज़ा लगाना बहुत मुश्किल नहीं है कि सैनिकों की क्या स्थिति होगी.

युद्ध में जर्मनी के एक सैनिक के कैमरे से ली गई तस्वीरें नीदरलैंड में प्रदर्शित की गई हैं. ये प्रदर्शनी हमेशा के लिए जारी रहेगी.

जर्मन सैनिक का ये कैमरा एक ब्रितानी नौसैनिक को नीदरलैंड में ही मिला था.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

रॉयल मैरीन ऑर्थर थॉम्प्सन उन दिनों डच लोगों को आजाद कराने के लिए ब्रिटेन और उसके सहयोगी देशों की सेना की संयुक्त कार्रवाई में भाग ले रहे थे.

वालशेरेन के द्वीप पर जर्मन सैनिक अपना बंकर छोड़ कर भाग गए थे. ऑर्थर थॉम्प्सन को ये कैमरा इसी बंकर में मिला था.

कैमरे के रोल में जो तस्वीरें कैद थीं, उनमें जर्मन सैनिक आराम फरमा रहे थे और एक दूसरे से हंसी मजाक कर रहे थे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ऑर्थर ने उसी कैमरे से ब्रितानी सैनिकों की भी तस्वीरें खींची.

ऑर्थर की 89 साल की उम्र में 2013 में मौत हो गई. उनकी आखिरी ख्वाहिश थी कि वो तस्वीरें और कैमरा वापस नीदरलैंड ही पहुंचा दिया जाए, जहां से वे इसे लाए थे.

यह बंकर हिटलर ने मित्र देशों की गठबंधन सेना की ओर से होने वाले किसी संभावित हमले से बचने के लिए अपनी रक्षा पंक्ति के तौर पर तैयार करवाया था.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption ऑर्थर थॉम्प्सन

हिटलर की ये रक्षा पंक्ति स्पेन की सीमा से स्कैंडिनेविया तक फैली हुई थी. तब ऑर्थर 21 साल के थे.

वे 47 सदस्यों वाली रॉयल मैरीन कमांडो टुकड़ी में थे, जिसे डच लोगों को आज़ाद कराने की मुहिम के तहत एंटवर्प के बंदरगाह को जर्मन कब्ज़े से छुड़ाने के मिशन पर भेजा गया था.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

मरने से पहले उन्होंने कहा था, "हम बंकर के भीतर गए और मैंने वो कैमरा उठा लिया. मैंने इससे तस्वीर भी खींची. जर्मन सैनिक वहां से काफी कुछ लेकर चले गए थे और वहां बहुत कम चीजें रह गई थीं. मैंने कुछ एक चीजें ले लीं."

उन्होंने कहा था, "जब मैं घर वापस लौटा तो उसके रोल को डेवलप कराया, तभी मैंने जर्मन सैनिकों की तस्वीरें देखीं."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption ऑर्थर थॉम्प्सन (बीच में) दो साथी रॉयल मरीन के साथ.

'दी 47 रॉयल मरीन कमांडो' का गठन अगस्त 1943 में किया गया था. फ्रांस के नॉरमैंडी क्षेत्र में की गई सैनिक कार्रवाई में ऑर्थर को पहली बार युद्ध में शामिल होने का मौका मिला था.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कैमरा सही सलामत था. ऑर्थर ने अपने एक साथी मरीन की ये तस्वीर खींची थीं.

ऑर्थर थॉम्प्सन की बेटी क्लेयर हंट बताती हैं कि 'फॉक्तलैंडर बेसा कैमरा' उनकी जिंदगी का तब से हिस्सा रहा है, जब से उन्होंने अपना होश संभाला.

वे कहती हैं कि उनके पिता हमेशा इसी से तस्वीरें खींचा करते थे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ऑर्थर को जब ये कैमरा मिला था, उसके ठीक 70 साल बाद उनकी बेटी ने इसे नीदरलैंड के वेस्टकैपेल में पोल्डरहॉइस म्यूज़ियम को दे दिया.

इस म्यूज़ियम में अब ये कैमरा और पहले रोल की तस्वीरें हमेशा के लिए रख दी गई हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार