यमन संकटः विद्रोहियों ने घेरा पीएम आवास

यमन, हूथी विद्रोही, टैंक इमेज कॉपीरइट Reuters

यमन के शिया हूथी विद्रोहियों ने राजधानी सना में प्रधानमंत्री आवास को घेर लिया है.

यमन के एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया, "बंदूक़धारियों ने महल को घेर लिया है और प्रधानमंत्री अंदर हैं."

इससे पहले दोनों पक्षों के बीच संघर्ष विराम पर सहमति होने से पहले हुए हिंसक संघर्ष में कम से कम आठ लोग मारे गए.

सितंबर में विद्रोहियों के राजधानी सना पर नियंत्रण कर लेने के बाद यह अब तक का सबसे हिंसक संघर्ष है.

राजधानी में क़ब्ज़ा

इमेज कॉपीरइट epa
Image caption यमन की राजधानी सैना में तेज़ धुआँ निकलते हुए देखा गया.

एक प्रत्यक्षदर्शी ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि विद्रोहियों और राष्ट्रपति के सुरक्षा गार्डों के बीच संघर्ष सोमवार को तब शुरू हुआ जब विद्रोहियों ने राष्ट्रपति आवास के पास लड़ाकों की तैनाती शुरू की.

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि इसके बाद राष्ट्रपति के सुरक्षा गार्डों की टुकड़ियां आसपास की सड़कों पर तैनात की गईं.

यमन के राष्ट्रपति अब्दराबुह मंसूर हादी के साथ हुए समझौते में हूथी विद्रोही इस बात पर सहमत हुए थे देश में एकता सरकार बन जाने के बाद वो राजधानी छोड़ देंगे. लेकिन अभी भी राजधानी के सुन्नी बहुल इलाक़ों में विद्रोही लड़ाके मौजूद हैं.

व्यापक स्वायत्तता

इमेज कॉपीरइट AP

हूथी, ज़ायदी शिया इस्लाम के अनुयायी हैं. वो सैदा प्रांत के उत्तरी इलाक़े में व्यापक स्वायत्तता के लिए साल 2004 से समय-समय पर विद्रोह करते रहे हैं.

साल 2011 में हुए विद्रोह में सैदा पर हूथी विद्रोहियों का नियंत्रण हो गया और लंबे समय से देश के राष्ट्रपति रहे अली अब्दुल्लाह सालेह को पद छोड़ना पड़ा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार