एक लड़की जो घूमती है शादी के लिबास में

मिस्र वेडिंग ड्रेस इमेज कॉपीरइट AHMAD ALSAATI

मिस्र की राजधानी काहिरा की सड़कों पर एक लड़की शादी के लिबास में चहलक़दमी कर रही है.

आहराम ऑनलाइन की ख़बर के अनुसार, 27 वर्षीय समाह हामदी अविवाहित हैं और समाज की उस सोच पर चोट करना चाहती हैं, जिसमें एक अविवाहित लड़की का शादी का लिबास पहनना अच्छा नहीं माना जाता है.

हामदी का कहना है कि देश में अकेली महिला को विवाहित जैसा लिबास पहनना कलंक समझा जाता है.

उन्होंने क़रीब एक साल तक शादी के लिबास में राजधानी की विभिन्न जगहों पर भ्रमण किया और तस्वीरें खिंचवाईं.

हामदी पेशे से इंटीरियर डिज़ाइनर हैं और परफ़ार्मेंस आर्ट में मास्टर्स डिग्री की पढ़ाई कर रही हैं.

वो कहती हैं कि शादी के मुद्दे पर अपने परिवार से उनका अक्सर नोंक-झोंक हुई है.

उन्होंने वेबसाइट को बताया, "आप कितने सम्पन्न हैं यह मायने नहीं रखता. यदि आप शादी नहीं कर रहे हैं या आप उस मिशन को नहीं अपना रहे हैं, जिसके लिए कथित रूप से आप पैदा हुए हैं तो आपकी सम्पन्नता का कोई मतलब नहीं है."

अविवाहित आबादी

इमेज कॉपीरइट AHMAD ALSAATI

उनके फ़ेसबुक पेज पर दर्जनों टिप्पणियां पोस्ट की गई हैं. एक यूज़र मुस्तफ़ा शालाबी की टिप्पणी है, "शाबाश! यह बीमार समाज है."

लेकिन एक अन्य यूज़र की टिप्पणी है, "एक व्यक्ति जिसके बच्चे नहीं हैं, उसके बुढ़ापे के समय उसकी देख-रेख के लिए शायद कोई नहीं रहेगा."

शादी का लिबास पहने घूमते हुए खींची गई उनकी तस्वीर को पिछले नवम्बर में एक पुरस्कार भी मिल चुका है.

लेकिन उनका यह विचार घर पर काम नहीं आया. वो बताती हैं कि उनकी मां अभी भी उन्हें 'अविवाहिता' मानती हैं.

वर्ष 2011 के एक सरकारी अंकड़े से पता चलता है कि अधिकांश मिस्रवासी अपनी ज़िंदगी का दूसरा दशक पार करने के बाद भी अविवाहित रहते हैं.

आहराम ऑनलाइन के अनुसार, यह आंकड़ा दिखाता है कि 90 लाख की आबादी 33 वर्ष के उम्र में भी अविवाहित रह जाती है और इसमें आधी आबादी महिलाओं की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार