अमरीकी संसद ने दिया नेतन्याहू को न्योता

ओबामा इमेज कॉपीरइट Getty

अमरीकी संसद ने इसराइली प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू को कांग्रेस को संबोधित करने के लिए बुलाया है. संसद के इस फ़ैसले को राष्ट्रपति बराक ओबामा के विरोध के रूप में देखा जा रहा है.

अमरीकी संसद अध्यक्ष जॉन बोएनर ने नेतन्याहू को कांग्रेस में ईरान मसले पर बातचीत के लिए बुलाया है.

जॉन बोएनर के इस क़दम को ओबामा की उस घोषणा के ख़िलाफ़ देखा जा रहा है जब 'स्टेट ऑफ़ यूनियन स्पीच' के दौरान ओबामा ने ईरान पर नए प्रतिबंध लगाने का विरोध करने की बात कही थी.

अमरीका का राष्ट्रपति कार्यालय मानता है कि ईरान पर नए प्रतिबंध लगाना परमाणु कार्यक्रम सौदे के लिए हानिकारक साबित हो सकता है.

दूसरे प्रस्तावों की आलोचना

इमेज कॉपीरइट Reuters

बोएनर ने अमीरों पर ज़्यादा टैक्स लगाने सहित ओबामा के दूसरे प्रस्तावों की भी आलोचना की है.

अमरीका के दोनों सदनों में रिपब्लिकन पार्टी का नियंत्रण हैं. ओबामा की डेमोक्रेटिक पार्टी को पिछले संसदीय चुनाव में अपेक्षित सफलता नहीं मिली थी.

बोएनर ने बुधवार को नेतन्याहू को बुलाए जाने की ख़बर की पुष्टि करते हुए बताया कि वे कांग्रेस में इस विषय पर अपनी बात रखेंगे कि कट्टरपंथी इस्लाम और ईरान किस तरह हमारी सुरक्षा और रोज़मर्रा के जीवन के लिए ख़तरा हैं."

ख़तरे की लीपापोती

Image caption संसद अध्यक्ष जॉन बोएनर(दाएं) और राष्ट्रपति बराक ओबामा.

बोएनर ने ओबामा पर भाषण में चरमपंथी इस्लामिक समूह और ईरान के परमाणु कार्यक्रम से पैदा होने वाले ख़तरे पर लीपापोती का आरोप लगाया.

ओबामा ने भाषण के दौरान कांग्रेस से ऐसे प्रस्ताव को पास करने की गुज़ारिश की थी जिससे अमरीका को चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ बलप्रयोग के इस्तेमाल का अधिकार मिल सके. साथ ही ओबामा ने कहा था कि यदि ईरान पर नए प्रतिबंध लगाए गए तो वे उसका विरोध करेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार