ब्राजील: 80 साल में सबसे भयंकर सूखा

brazil, worst, drought, इमेज कॉपीरइट EPA

ब्राज़ील में सबसे अधिक आबादी वाले क्षेत्रों को 80 साल में अब तक के सबसे भयंकर सूखे का सामना करना पड़ रहा है.

ब्राज़ील की पर्यावरण मंत्री इज़ाबेला टेक्सीरा के अनुसार देश के तीन सबसे अधिक आबादी वाले राज्यों -साओ पोलो, रियो डे जेनेरियो और मिनास गेरेस में 1930 के बाद यह अब तक की सबसे भयावह सूखे की स्थिति है.

राजधानी ब्रासीलिया में एक आपातकालीन बैठक के बाद उन्होंने कहा कि तीनों राज्यों को पानी बचाने की सख़्त आवश्यकता है.

'ख़राब योजना'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption ब्राजील की पर्यावरण मंत्री इज़ाबेला टेक्सीरा

इज़ाबेला टेक्सीरा ने कहा, "इससे देश के कृषि और उद्योग जगत पर भी असर पड़ेगा और पहले से संकटग्रस्त ब्राज़ील की अर्थव्यवस्था भी प्रभावित होगी."

सूखे से पनबिजली परियोजनाएं भी प्रभावित हुई हैं और ऊर्जा आपूर्ति पर फ़र्क पड़ा है.

रियो डे जेनेरियो से बीबीसी संवाददाता जूलिया कारनेरो बताती हैं कि वैसे तो ब्राज़ील में इस समय बरसात का मौसम है, लेकिन देश के दक्षिण पूर्वी भाग में बारिश न के बराबर हुई है.

इससे स्थिति और ख़राब होती जा रही है, जिससे निपटने की कोई ठोस योजना नहीं बनाई गई है.

जूलिया कारनेरो कहती हैं, "ब्राजील के इन राज्यों के रिकॉर्डों के अनुसार पिछले 84 सालों में वहां इससे ज्यादा चिंताजनक स्थिति नहीं देखी गई."

साओ पोलो को पिछले साल भी इस समस्या का सामना करना पड़ा था.

इमेज कॉपीरइट EPA

गवर्नर जेरैल्डो अल्कमिन ने स्थिति से निबटने के लिए कई कदम उठाए हैं. इनमें पानी की ज्यादा खपत करने वालों पर जुर्माना और कम खपत करने वालों को छूट के साथ ही उद्योग और कृषि के नदियों से पानी के इस्तेमाल को सीमित किया गया है.

लेकिन आलोचक ख़राब योजना और राजनीति ही बिगड़ते हालात के लिए ज़िम्मेदार ठहराते हैं.

रियो दे जेनेरियो राज्य के मुख्य जलाशय का स्तर इसके बनने के बाद से पहली बार शून्य स्तर तक पहुंच गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार