बर्मा का आग उगलता बौद्ध भिक्षु

विवादास्पद बौद्ध भिक्षु अशीन विराथु इमेज कॉपीरइट AP
Image caption विवादास्पद बौद्ध भिक्षु अशीन विराथु.

म्यांमार के कट्टरपंथी बौद्ध भिक्षु अशीन विराथु को उनके कट्टरपंथी भाषणों की वजह से जाना जाता है.

विराथु अपने भाषणों के ज़रिए इस भावना को भड़काने का काम कर रहे हैं कि मुस्लिम अल्पसंख्यक एक दिन देश भर में फैल जाएंगे.

अब अशीन विराथु ने म्यांमार में संयुक्त राष्ट्र की विशेष प्रतिनिधि यांगी ली को 'कुतिया' और 'वेश्या' कहकर नाराज़गी मोल ले ली है.

म्यांमार के दूसरे बौद्ध भिक्षु विराथु के बारे में क्या सोचते हैं और महिला समूहों में उनके ख़िलाफ़ किस कदर गुस्सा है.

बीबीसी बर्मा की पड़ताल

(पढ़ेंः बर्मा में राजनैतिक कैदियों की रिहाई...)

कौन हैं अशीन विराथु?

इमेज कॉपीरइट AP

दस साल पहले मांडले के इस बौद्ध भिक्षु के बारे में बहुत कम लोगों ने सुना था. 1968 में जन्मे अशीन विराथु ने 14 साल की उम्र में स्कूल छोड़ दिया और भिक्षु का जीवन अपना लिया.

(पढ़ेंः बर्मा में पत्रकार की हत्या)

विराथु को लोगों ने तभी जाना जब वे 2001 में राष्ट्रवादी और मुस्लिम विरोधी गुट '969' के साथ जुड़े. म्यांमार में इस संगठन को कट्टरपंथी माना जाता है, लेकिन इसके समर्थक इन आरोपों से इनकार करते हैं.

साल 2003 में उन्हें 25 साल जेल की सजा सुनाई गई, लेकिन साल 2010 में उन्हें अन्य राजनीतिक बंदियों के साथ रिहा कर दिया गया.

कैसे मशहूर हुए?

इमेज कॉपीरइट AP

और सरकार ने जैसे ही नियमों में राहत दी, वे सोशल मीडिया पर अधिक सक्रिय हो गए. उन्होंने अपने संदेश का प्रचार यूट्यूब और फ़ेसबुक पर किया. फ़ेसबुक पर फिलहाल उनके 37 हज़ार से ज़्यादा फ़ॉलोअर हैं.

(पढ़ेंः बौद्ध भिक्षु ने दी यूएन दूत को गालियां)

साल 2012 में जब राखिने प्रांत में रोहिंग्या मुसलमानों और बौद्धों के बीच हिंसा भड़की तो वे अपने भड़काऊ भाषणों के साथ लोगों की भावनाओं से जुड़ गए.

उनके प्रवचन इस ख़ास शैली में शुरू होते हैं, "आप जो भी करते हैं, एक राष्ट्रवादी के तौर पर करें." ये ऑनलाइन पब्लिश होते हैं और इनका व्यापक प्रचार होता है.

लेकिन सियासी हलकों में अशीन विराथु की भाषणबाज़ी कुछ ज़्यादा ही है.

जब उनसे ये पूछा गया कि क्या वे 'बर्मा के बिन लादेन' हैं, उन्होंने कहा कि वे इनकार नहीं करेंगे. कुछ रिपोर्टों में उन्हें ये कहते हुए बताया गया कि वे शांति के लिए काम करते हैं.

वे चाहते हैं क्या?

इमेज कॉपीरइट Other

एक जुलाई, 2013 को टाइम मैगज़ीन ने उन्हें कवर पेज पर छापा और इसकी हेडलाइन थी, 'दि फ़ेस ऑफ़ बुद्धिस्ट टेरर' या 'बौद्ध आतंक का चेहरा'?

(पढ़ेंः 'बलात्कार पीड़ितों' का अंतिम संस्कार)

उनके उपदेशों में वैमनस्यता की बात होती है और उनका निशाना मुस्लिम समुदाय ही होता है, ख़ासकर रोहिंग्या लोग. उन्होंने ऐसी रैलियों का भी नेतृत्व किया जिनमें रोहिंग्या मुसलमानों को किसी तीसरे देश में भेजने की बात कही गई.

उन्होंने झड़पों के लिए मुसलमानों को ज़िम्मेदार ठहराया और उनके प्रजनन दर को लेकर निराधार दावे किए. उनका ये भी दावा है कि बौद्ध महिलाओं का जबरन धर्मांतरण करवाया जा रहा है.

अभियान

इमेज कॉपीरइट Other

वे बौद्ध महिलाओं को बिना सरकारी इज़ाजत के अन्य धर्म के लोगों से शादी करने पर रोक लगाने वाले क़ानून के पक्ष में चलाए जा रहे अभियान की अगुवाई कर रहे हैं.

यह कहना लगभग नामुमकिन है कि उन्हें बर्मा के बौद्ध भिक्षुओं के समुदाय का समर्थन किस हद तक हासिल होगा. उनकी आलोचना में आवाज़ें भी उठी हैं.

बर्मा के बौद्ध भिक्षु यू ओट्टारा ने बीबीसी की बर्मा सेवा को उनके हाल के बयानों के प्रति अपनी नाखुशी जाहिर की.

उन्होंने कहा, "मुझे बहुत खराब लग रहा है. मैं ये कह सकता हूं कि इस तरह के शब्दों का प्रयोग किसी बौद्ध भिक्षु को नहीं करना चाहिए."

(पढ़ेंः सू ची पर प्रतिबंध जारी)

इमेज कॉपीरइट Reuters

डर इस बात का है कि विराथु बाहरी दुनिया के सामने बर्मा के बौद्ध समुदाय का चेहरा बनकर उभर रहे हैं और एक बात तो तय है कि वे इसकी नुमाइंदगी नहीं करते हैं.

कई लोगों का ये मानना है कि विराथु को सरकार इसलिए बर्दाश्त कर रही है क्योंकि वे लोकप्रिय विचारों को आवाज़ दे रहे हैं, ख़ासकर रोहिंग्या मुसलमानों के बारे में, जिनके बारे में वे कूटनयिक वजहों से खुद कुछ नहीं कह सकते हैं.

धार्मिक मामलों के मंत्रालय ने इस बात पुष्टि की है कि वे उनके ख़िलाफ़ तब तक कार्रवाई नहीं करेंगे जब तक कि उन्हें इसकी शिकायत नहीं मिलेगी.

संयुक्त राष्ट्र की प्रतिनिधि यांगी ली के बारे में विराथु की हालिया टिप्पणी की निंदा करने में भी सरकार अभी तक नाकाम रही है.

महिलाओं को कैसा लगता है?

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption म्यांमार में संयुक्त राष्ट्र की दूत यांगी ली.

यह एक ऐसा समूह है जो लगातार विरोध में बोल रहा है. महिला कार्यकर्ताओं ने इसकी निंदा की है.

'वूमेंस लीग ऑफ़ बर्मा' की महासचिव टिन टिन न्यो ने कहा है कि विराथु महिलाओं की शादी से संबंधित जिस क़ानून की वकालत कर रहे हैं, वह उनकी सुरक्षा के लिए नहीं, बल्कि उनके दमन के लिए है.

(पढ़ेंः म्यांमार में फैलता अफ़ीम का 'जहर'?)

इमेज कॉपीरइट Facebook
Image caption फ़ेसबुक पर विराथु के हज़ारों फौलोअर हैं.

वे कहती हैं, "यह महिलाएं ही तय कर सकती हैं कि वे किससे शादी करें और वह किस धर्म का हो."

टिन टिन न्यो बताती हैं कि पुरानी पीढ़ी के मन में बौद्ध भिक्षुओं के लिए बेहद सम्मान है, इसलिए विराथु का विरोध करने वाली सामान्य महिलाओं और युवा कार्यकर्ताओं को अपने अभिभावकों के विरोध का सामना करना पड़ता है.

(बीबीसी बर्मा सेवा की सोए विन थान और को को आंग के सहयोग से यह रिपोर्ट तैयार की गई है.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार