सैनेट्री पैड्स के 4 सस्ते और सुलभ विकल्प

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

अर्जेंटीना एवं वेनेजुएला में पिछले दिनों सैनेट्री पैड्स टैंपून्स की कमी के चलते इसके विकल्पों को लेकर दोनों देशों में बहस देखने को मिली.

वेनेजुएला के टीवी नेटवर्क वाइव टीवी ने तो एक वैसा कार्यक्रम पेश किया, जिसमें महिलाओं को घर में इको-फ्रैंडली सैनेट्री पैड्स बनाने के बारे में जानकारी दी गई थी.

सैनेट्री पैड्स की जगह इस्तेमाल होने वाली चार प्राकृतिक विकल्पों पर एक नज़र.

1. द मूनकप: सैनेट्री पैड्स के विकल्पों में इसका इस्तेमाल सबसे ज़्यादा होता है.

ये सिलिकॉन से बनाया जाता है और इसके निर्माताओं के मुताबिक़, इसका इस्तेमाल सालों से हो रहा है.

इसके इस्तेमाल पूरी रात तक किया जा सकता है और इसमें वह संकेत चिह्न भी लगा होता है जिससे आपको मालूम हो कि ये कब पूरा भर चुका है.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

हालांकि ये लीक नहीं करता है और आपको ये पता चल जाता है कि कब इसे बदलना है.

अमूमन इसका इस्तेमाल 8 घंटे तक संभव है और इसे खाली करने के बाद डॉक्टरों के मुताबिक़, इसे फिर से प्रयोग लायक बनाया जा सकता है.

इसके लिए गर्म पानी में इसे तीन मिनट तक रखना होता है या फिर एक ख़ास तरह के टेबलेट के इस्तेमाल से भी इसे प्रयोग के लायक बनाया जा सकता है.

इसके दोबारा इस्तेमाल होने के चलते इस पैड की आलोचना भी होती है.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

बीबीसीमुंडो सेवा से बात करते हुए चिली एसोसिएशन ऑफ़ गायनेकॉलजी एंड ऑबस्ट्रिक्स की डॉक्टर गुलिर्मो गालान ने कहा, "दोबारा इस्तेमाल करने के चलते ही इसका इस्तेमाल कुछ ही महिलाएं करती हैं. इसका इस्तेमाल वही महिलाएं करती हैं जो प्राकृतिक जीवनशैली पर यकीन करती हैं."

हालांकि गालान के मुताबिक़, इसका इस्तेमाल कहीं से भी असुविधाजनक नहीं होता.

2. नेचुरल सी स्पांज्स: इस स्पांज्स का इस्तेमाल भी दोबारा संभव होता है. बिक्री के लिए ये स्पंज एकदम साफ और सूखा होते हैं.

इस्तेमाल करने से पहले इसे गर्म पानी में भिगोया जाता है, इससे स्पंज सहूलियत से इस्तेमाल हो पाती है.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

महावारी चक्र के दौरान महिलाएं, सुविधा के मुताबिक़, जब चाहे तो धोकर फिर से इस्तेमाल कर सकती हैं.

महावारी चक्र पूरा होने के बाद इसे दो बूंद ऑलिव आयल वाले पानी में रात भर रखना होता है, इसके बाद इसे सुखा कर स्टोर किया जा सकता है.

हालांकि कईयों को यह कम सुरक्षित लगता है. डॉक्टर गुलिर्मो गालान कहती हैं, "यह इस्तेमाल करने में तो टैंपून्स जैसा ही है, लेकिन लंबे समय तक इस्तेमाल से महिलाओं में एलर्जी देखने को मिल सकती है."

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

3. दोबारा इस्तेमाल लायक सैनेट्री टॉवल्स: ये सूती के तौलिए होते हैं और सैनेट्री पैड्स के आने से पहले इसका इस्तेमाल ही चलन में था. ये कई रंग और आकार के होते हैं और इसे घर पर भी तैयार किया जा सकता है.

इसे इस्तेमाल करने वाली महिलाओं के मुताबिक़, ये सिंथैटिक पैड्स के मुक़ाबले ज्यादा आरामदायक होता है. इसे धोकर फिर से इस्तेमाल किया जा सकता है. हालांकि इसे धोने के लिए कई लीटर पानी खर्च करने होते हैं.

4. अबसोर्वेंट अंडरवियर: नाम से जाहिर है, ये ऐसा अंडरवियर होता है जो तरल को सोखने की क्षमता रखता है. ये इंटरनेट पर भी बिक्री के लिए उपलब्ध है, लेकिन इसे एडल्ट नैपी मत समझ लीजिएगा.

यह रेगुलर अंडरवियर जैसा ही होता है, लेकिन यह तरल को सोख लेता है. इसे सामान्य अंडर वियर की तरह धोया और सुखाया जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

इसका डिज़ाइन काफी हद तक डिस्पोजेबल सैनेट्री पैड्स जैसा ही होता है.

डॉक्टर गालान के मुताबिक़, ये ज़रूरी है कि ऐसे अंडरवियर सूती से बने हों, दूसरे पदार्थ के बने होने से इससे हवा का आना जाना संभव नहीं होता, जो इसके इस्तेमाल को असहज बनाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार