भारत-अमरीकी गठजोड़ के ख़िलाफ़ ‘ठोस संदेश’

इमेज कॉपीरइट Reuters

पाकिस्तानी उर्दू मीडिया में देश की विदेशी नीति पर ख़ास तौर से चर्चा हो रही है.

नवाए वक़्त ने पाकिस्तान दिवस पर होने वाले वाली सैन्य परेड में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को मुख्य अथिति बनाए जाने पर लिखा है कि ये दुनिया को अमरीका–भारत गठजोड़ के ख़िलाफ़ ठोस पैग़ाम है.

अख़बार लिखता है कि भारत के गणतंत्र दिवस पर अमरीकी राष्ट्रपति ओबामा का दिल्ली जाना और दोनों देशों के बीच परमाणु रक्षा सहयोग के समझौते होना पाकिस्तान के लिए एक खुली चुनौती थी.

अख़बार के मुताबिक़ चीन और पाकिस्तान के हित साझा हैं और इसलिए उनका दुश्मन भी साझा है, ऐसे में चीन ने साफ़ कर दिया है कि इस क्षेत्र में पाकिस्तान के हितों से ही चीन के हित भी जुड़े हैं.

एक्सप्रेस लिखता है कि ओबामा ने अपने भारत दौरे में जिस तरह भारत पर मेहरबानियों की बारिश की और उसे सुपर पावर बनाने के लिए समझौते किए, वो पाकिस्तान को बहुत कुछ सोचने के लिए मजबूर कर रहे हैं.

पाक को मदद छह गुना

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption ओबामा के भारत दौरे में कई अहम समझौते हुए

औसाफ़ ने अपने संपादकीय में प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के एक इंटरव्यू का ज़िक्र किया है जिसमें वो कहते हैं कि अमरीकी राष्ट्रपति ने भारत जाने से पहले उन्हें भरोसे में लिया था.

लेकिन अख़बार की टिप्पणी है कि ये ऐसा बदक़िस्मत दौर है जब पाकिस्तान की कोई विदेश नीति नहीं और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उसे अलग थलग किया जा रहा है. इसलिए ज़रूरी है कि एक मज़बूत रक्षा, विदेश नीति के अलावा प्रभावी क़ानून बनाए जाएं.

वहीं जंग ने पाकिस्तान को दी जाने वाली अमरीकी सैन्य मदद छह गुना करने की राष्ट्रपति ओबामा की सिफ़ारिश पर संपादकीय लिखा है.

अख़बार के मुताबिक़ इससे साफ़ होता है कि अमरीका ने दहशतगर्दी और चरमपंथ से निपटने के पाकिस्तान के प्रयासों को मान्यता दी है, लेकिन पाकिस्तान ने इस लड़ाई में जितना जानो-माल का नुक़सान झेला है और झेल रहा है, उसके मुक़ाबले ये ज़्यादा नहीं है.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption पाकिस्तान में कई वर्षों से सुरक्षा हालात अस्थिरता के शिकार हैं

दैनिक दुनिया ने अपने संपादकीय में कश्मीर मुद्दे को उठाते हुए लिखा है कि पाकिस्तान कश्मीरियों के संघर्ष का समर्थन चंद वर्ग हज़ार किलोमीटर के इलाक़े की ख़ातिर नहीं करता और न ही वो भारत की तरह विस्तारवादी रवैया रखता है, बल्कि वो तो अपने वजूद के लिए लड़ रहे सवा करोड़ कश्मीरियों के संघर्ष के साथ है.

अख़बार के मुताबिक़ कश्मीरियों का समर्थन करने की पाकिस्तान ने भारी क़ीमत अदा की है लेकिन फिर भी वो अपने उस संकल्प से नहीं डिगा है जो उसने 14 अगस्त 1947 को लिया था.

बीजेपी का यूटर्न

रुख़ भारतीय उर्दू अख़बारों का करें तो हमारा समाज का संपादकीय है- बीजेपी का यूटर्न.

अख़बार के मुताबिक़ लोकसभा चुनाव से पहले नरेंद्र मोदी ने काला धन वापस लाकर सब लोगों को 15-15 लाख रुपये देने का जो वादा किया था, अब पार्टी उससे किनारा कर रही है.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption अमित शाह ने 15 लाख वाले वादे पर मोदी सरकार का बचाव किया

पार्टी प्रमुख अमित शाह ने साफ़ कर दिया है कि ये तो बस चुनावी बयानबाज़ी थी. अख़बार की राय में इस यूटर्न ने सियासी गलियारों में एक नई बहस को जन्म दिया है.

रोज़नामा खबरें ने बिहार की सियासी उठापटक पर लिखा है कि असल में ये जंग मांझी बनाम नीतीश कुमार नहीं है, क्योंकि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पटना पहुंच गए हैं और हालात पर नज़र रखे हुए हैं.

अख़बार की राय में भाजपा चाहती है कि मांझी जेडीयू को ज़्यादा से ज़्यादा नुक़सान पहुंचाए, लेकिन उनकी सरकार को समर्थन देना भाजपा के लिए आसान नहीं होगा.

अख़बार के मुताबिक़ मांझी चाहे जो कर लें लेकिन एक अच्छी सरकार देना उनके बस में नहीं है और चुनाव से पहले ऐसी सरकार का साथ देने का ख़तरा बीजेपी नहीं उठाना चाहेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार