मोदी लहर को 'तगड़ा झटका': चीनी मीडिया

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

दिल्ली विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी की जीत को चीन के अख़बारों ने 'मोदी लहर' के लिए एक 'तगड़ा झटका' बताया है.

70 सदस्यों वाली विधानसभा के लिए हुए चुनावों में आम आदमी पार्टी को 67 सीटें मिलीं जबकि भाजपा को केवल तीन सीटों पर जीत हासिल हुई.

चीनी अख़बारों के अनुसार दिल्ली चुनाव के नतीजे मोदी प्रशासन के लिए झटका है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संसद के ज़रिए सुधार की प्रक्रिया आगे बढ़ाने के लिए अगामी विधानसभा चुनावों में जीत हासिल करनी होगी.

दर असल मोदी की पार्टी को लोकसभा में तो स्पष्ट बहुत है लेकिन राज्यसभा में उन्हें बहुमत हासिल नहीं है. भारतीय क़ानून के मुताबिक़ किसी भी बिल को दोनों सदनों से पास कराना पड़ता है.

राज्यसभा के सांसदों का चुनाव विधानसभा सदस्य करते हैं.

मोदी तूफ़ान के लिए बड़ा झटका

इमेज कॉपीरइट Reuters

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के समाचार पत्र पीपुल्स डेली ने सुर्ख़ी दी है, ''दिल्ली के स्थानीय चुनाव 'मोदी लहर' के लिए 'तगड़ा धक्का' है.''

अख़बार के अनुसार, ''दिल्ली चुनाव से ठीक पहले भाजपा की ईमानदारी को लेकर सवाल उठने लगे थे.''

ये कहा जाने लगा था कि उसने आम चुनाव से पहले विदेशों से काला धन लाने का जो वादा किया था वो उसने पूरा नहीं किया.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption नतीजो के बाद केजरीवाल ने कहा था कि जीत के बाद डर लग रहा है

साथ ही अख़बार ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के उस बयान को भी छापा है जिसमें उन्होंने दिल्ली चुनाव से पहले कहा था कि ये तो एक चुनावी जुमला था.

केंद्र की आलोचना का ज़िक्र करते हुए अख़बार ने लिखा है कि मोदी को सत्ता में आए नौ महीने हो चुके है लेेकिन उसके 'खोखले शब्दों' और 'कम काम' से लोग निराश हैं.

भाजपा को चेताया

समाचार एजेंसी 'चाइना न्यूज़ सर्विस' ने कांग्रेस का उदाहरण देकर भाजपा को चेताया है. इन चुनाव में कांग्रेस खाता भी नहीं खोल पाई है.

समाचार एजेंसी ने लिखा है कि कांग्रेस पार्टी का उतार-चढ़ाव मोदी और भाजपा के लिए एक अलार्म है.

इमेज कॉपीरइट AFP

चाइना न्यूज़ सर्विस की राय में, चुनावी माहौल बदल रहा है, अब मतदाता वादों को पूरा होता देखना चाहते हैं और इसमें ज़रा भी कोताही का परिणाम पार्टी को चुनावों में भुगतना पड़ सकता है. अगर पार्टी ख़ुद में सुधार नहीं करेगी तो उसके अस्तित्व पर ख़तरा मंडराने लगेगा.

साथ ही ये भी कहा गया है कि मोदी के पास ज़्यादा वोट हासिल करने का मौक़ा है तो लेकिन उनके पास ज़्यादा समय नहीं है.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार