जन्मदिन के बैलून को समझा आईएस का प्रचार

स्वीडन में जन्मदिन की बैलून इमेज कॉपीरइट THE LOCAL

स्वीडन की पुलिस ने चरमपंथी संगठन आईएस का प्रचार समझ कर 21वें जन्मदिन के बैलून को हटाने को कहा.

दरअसल सराह एरिक्सन के 21वें जन्मदिन के मौके पर उनकी खिड़की में 2 और 1 अंक के आकार का बैलून लगा हुआ था. 21 को यदि उल्टा पढ़ा जाए तो ये अंग्रेजी में लिखे आईएस यानि "IS" जैसा दिखता है.

'आईएस' इस्लामिक स्टेट के लिए लिखा जाने वाला संक्षिप्त शब्द है.

पुलिस जब सराह एरिक्सन के घर के पास से गुजरी तो उन्होंने ये समझा कि यह बैलून चरमपंथी समूह के किसी समर्थक ने लगाया है.

हालांकि बाद में पुलिस को अपनी गलती का अहसास हुआ. फिर बैलून से आगे और गलतफहमी पैदा ना हो इसके लिए एहतियातन बैलून को हटाने का आदेश दिया गया.

इमेज कॉपीरइट AFP

एरिक्सन के मित्र फैबियन एकेसन ने स्वीडन की मीडिया को जानकारी दी कि तीन पुलिस अधिकारी घर आए और उन्हें तस्वीर दिखाई कि घर के बाहर से बैलून कैसा दिख रहा है.

एरिक्सन तब घर पर नहीं थी. उन्होंने बाद में एक स्थानीय वेबसाइट को बताया, "चरमपंथियों से जुड़ी हर बात को हमेशा गंभीरता से लेना चाहिए. इसलिए हमने वो बैलून फौरन हटा लिया."

(सोशल मीडिया जैसे फ़ेसबुक और ट्विटर पर आप हमें फ़ॉलो कर सकते हैं. यदि आप बीबीसी हिन्दी का एंड्रॉएड ऐप भी देखना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें.)

संबंधित समाचार