'ईरान एक दशक तक परमाणु कार्यक्रम बंद करे'

बराक ओबामा और नेतान्याहु इमेज कॉपीरइट Getty

अमरीकी कांग्रेस में इसराइली प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू के भाषण से पहले अमरीकी राष्ट्रपति ओबामा ने कहा है कि ईरान को अपना परमाणु कार्यक्रम कम से कम एक दशक के लिए बंद करने पर राज़ी हो जाना चाहिए.

इसराइल के प्रधानमंत्री नेतन्याहू ईरान के साथ हो रहे परमाणु समझौते का विरोध कर रहे हैं.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स को दिए साक्षात्कार में ओबामा ने कहा, ''नेतन्याहू ने पिछले साल जब अंतरिम समझौते का विरोध किया था, तब वो ग़लत थे.''

उन्होंने कहा, ''नेतन्याहू ने हर किस्म के दावे किए. उन्होंने कहा कि समझौता विनाशकारी साबित होगा, इससे ईरान को 50 अरब डॉलर की मदद मिलेगी और ईरान समझौते को नहीं मानेगा.''

ओबामा ने कहा, ''यह सच साबित नहीं हुआ. इस दौरान हमने देखा है कि ईरान अपने परमाणु कार्यक्रम में इज़ाफ़ा करने के बजाय उसे सीमित कर रहा है.''

डेमोक्रेट नाराज़

इमेज कॉपीरइट Reuters

नेतन्याहू को रिपब्लिक पार्टी के हाउस स्पीकर जॉन बोएनर ने कांग्रेस में भाषण का न्यौता दिया था जिससे डेमोक्रेट नाराज़ हैं.

दूसरी ओर 31 मार्च की निर्धारित समय-सीमा से पहले किसी समझौते के ड्राफ्ट पर पहुंचने के लिए अमरीकी विदेश मंत्री जॉन केरी स्विट्ज़रलैंड में ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद ज़रीफ़ के साथ बातचीत कर रहे हैं. उम्मीद की जा रही है कि 30 जून तक अंतिम समझौता हो जाएगा.

अमरीका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, रूस और चीन ईरान के परमाणु कार्यक्रम को रोकने के बदले उस पर लगे प्रतिबंधों की सख्ती को कम करने की पेशकश कर रहे हैं.

अमरीकी राष्ट्रपति ओबामा का कहना है, ''अगर वे सहमत होते हैं तो किसी भी सैन्य कार्रवाई या प्रतिबंधों के मुक़ाबले यह ज़्यादा प्रभावी होगा.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार