फ़ेसबुक पर कमेंट करने पर गिरफ़्तारी

फ़ेसबुक इमेज कॉपीरइट Reuters

संयुक्त अरब अमीरात में अमरीकी मूल के एक व्यक्ति को फ़ेसबुक पर कमेंट करने के लिए गिरफ़्तार किया गया है. ये कमेंट उन्होंने तब किए थे जब वह अमरीका में थे.

अमरीकी शहर फ़्लोरिडा में रहते हुए हेलिकॉप्टर मैकेनिक रेयान पैट ने ग्लोबल एरोस्पेस लोजिस्टिक कंपनी में अपने नियोक्ता से सिक लीव पर हुई बहस के बाद फेसबुक पर ये कमेंट पोस्ट किए थे.

फ़्लोरिडा से अबु धाबी लौटने पर उन्हें देश के कड़े साइबर क़ानून तोड़ने के आरोप में हिरासत में लिया गया.

इमेज कॉपीरइट AFP

इस मामले की क़ानूनी कार्यवाही 17 मार्च को शुरू होनी है और दोषी क़रार दिए जाने पर उन्हें पांच साल जेल और भारी जुर्माना भरना पड़ सकता है.

पैट का इस कंपनी से विवाद दिसंबर में हुआ था जब उन्होंने लंबे समय से पीठ की चोट के इलाज के लिए छुट्टी बढ़ाने की मांग की थी. कंपनी ने उनकी छुट्टी बढ़ाने से इनकार कर दिया.

इसके बाद पैट ने अपने फ़ेसबुक पेज पर अबु धाबी स्थित इस कंपनी पर अपना ग़ुस्सा निकाला. अपनी पोस्ट में पैट ने इस कंपनी जीएएल को 'पीठ में छुरा घोंपने वाला' बताया था और इस कंपनी के साथ काम कर रहे लोगों को भी चेताया था.

कंपनी की फ़ेसबुक पर की थी निंदा

उन्होंने यूएई में जीवनयापन के बारे में भी शिकायत की थी और इस क्षेत्र के लोगों के ख़िलाफ़ नस्लीय टिप्पणी भी की.

वह अबु धाबी अपना इस्तीफ़ा देने के लिए वापस आए थे, उन्हें अबु धाबी पहुंचते ही पास के पुलिस स्टेशन जाने को कहा गया. वहां उन्हें फ़ेसबुक पेज के स्क्रीनशॉट दिखाए गए और बताया गया कि उनके नियोक्ता ने उनके ख़िलाफ़ साइबर क़ानून तोड़ने के आरोप लगाए हैं.

ये क़ानून 2012 में लागू किया गया था जिसके अनुसार किसी व्यक्ति या संस्थान का तिरस्कार करना या मज़ाक उड़ाना एक अपराध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार