मैंने निजी ईमेल किया इस्तेमाल: हिलेरी

इमेज कॉपीरइट Reuters

हिलेरी क्लिंटन ने माना है कि अमरीकी विदेश मंत्री रहते हुए उन्होंने अपने निजी ईमेल अकाउंट का इस्तेमाल किया था.

सवाल उठ रहे हैं कि क्या ऐसा करके उन्होंने अमरीकी रिकॉर्ड नियमों का उल्लंघन किया है.

अमरीका में 2016 में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों में हिलेरी क्लिंटन को डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से बड़े दावेदारों में से एक माना जा रहा है.

ऐसे में, हिलेरी क्लिंटन को इस मामले पर सफाई देनी पड़ी है. मंगलवार को एक प्रेस कांफ्रेस कर उन्होंने कहा कि अगर वो निजी और आधिकारिक ईमलों को अलग रखतीं, तो बेहतर होता.

60 हज़ार ईमेल

हिलेरी ने कहा, “जब मैं विदेश मंत्री थी तो मैंने अपनी सुविधा के लिए निजी ईमेल अकाउंट का ही इस्तेमाल किया और ऐसा करने की अनुमति विदेश मंत्रालय में थी. मैंने सोचा कि ये आसान होगा क्योंकि निजी और आधिकारिक ईमेल भेजने के लिए मुझे दो दो फोन लेकर नहीं चलने होंगे."

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption हिलेरी क्लिंटन 2016 के राष्ट्रपति चुनाव के लिए एक दावेदार मानी जा रही हैं

"अब पीछे मुड़कर देखती हूं तो लगता है कि बेहतर होता कि अगर मैं आधिकारिक ईमेल अकाउंट का इस्तेमाल करती और दूसरा फोन भी लेकर चलती, लेकिन उस समय मेरे लिए ये बात मुद्दा ही नहीं थी.”

प्रतिद्वंद्वी रिपब्लिकन पार्टी ही नहीं, बल्कि उनकी अपनी डेमोक्रेटिक पार्टी के कई नेता भी हिलेरी क्लिंटन की आलोचना कर रहे थे कि वो जवाब क्यों नहीं दे रही हैं.

अमरीकी नियमों के अनुसार अधिकारियों का पत्राचार अमरीकी सरकार की संपत्ति माना जाता है.

हिलेरी जनवरी 2009 से लेकर फरवरी 2013 तक अमरीका की विदेश मंत्री रहीं और इस दौरान उन्होंने लगभग 60 हजार ईमले भेजे जिनमें से लगभग आधे निजी थे.

अमरीकी विदेश मंत्रालय का कहना है कि उन्हें लगभग 55 हजार पन्नों पर प्रिंट किए हुए ये ईमेल मिले हैं और समीक्षा के बाद उन्हें जारी कर दिया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)