सऊदी अरब ने स्वीडन से राजदूत वापस बुलाया

स्वीडन विदेश मंत्री इमेज कॉपीरइट AP

बढ़ते कूटनीतिक विवाद के बीच सऊदी अरब ने स्वीडन से अपने राजदूत को वापस बुला लिया है.

सऊदी अरब के साथ हथियारों के समझौते को खारिज करने के स्वीडन के फैसले से बाद ये कदम उठाया गया है.

सऊदी अरब ने अरब लीग में स्वीडन की विदेश मंत्री को भाषण करने से रोका दिया. इससे नाराज़ हो कर स्वीडन ने सऊदी अरब से हथियार समझौता रद्द कर दिया.

विदेश मंत्री मारगोट वॉलस्ट्रोम सऊदी अरब की आलोचक रही हैं और वो वहां की व्यवस्था को 'तानाशाही' भी कह चुकी हैं.

बुधवार को सऊदी विदेश मंत्रालय ने वॉलस्ट्रोम की टिप्पणियों को 'भड़काऊ और अपने आंतरिक मामलों में दखलंदाजी' क़रार दिया.

सोमवार को वॉलस्ट्रीम ने इंटरनेट पर अपने उस भाषण को जारी किया जो वो काहिरा में अरब लीग की बैठक में देने वाली थीं.

इस भाषण में उन्होंने बताया कि स्वीडन अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकारों के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने अभिव्यक्ति और धर्म की स्वतंत्रता को बुनियादी अधिकार बताया.

उधर स्वीडन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता एरिक बोमन का कहना है कि रियाद से स्वीडिश राजदूत को वापस बुलाने की अभी कोई योजना नहीं है और दोनों देशों के बीच 'राजनयिक संबंध टूटे नहीं है'.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार