सैर सपाटे में पैसे बचाने के 4 तरीके

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

सैर सपाटा किसे पसंद नहीं, लेकिन जब चाहा तब उठकर छुट्टियां मनाने के लिए निकल जाना, आइडिया ही है, प्रैक्टिकल नहीं है.

बच्चों वाले परिवार स्कूली अवकाश, कामकाजी लोग अपने कंपनी के काम, व्यवसायिक मजबूरियों और अन्य स्टूडेंट्स भी स्कूल-कॉलेज-यूनिवर्सिटी की छुट्टियों से बंधे होते हैं.

वसंत की शुरुआत के साथ ही हमारे आपके मन में छुट्टियां लेकर घूमने की चाह प्रबल हो उठती है.

लेकिन कई बार चाहते हुए भी ये संभव नहीं हो पाता. कारण है - पीक सीज़न में ख़र्च. पीक सीज़न साल का वो समय है जब अनेक लोग किन्ही वजहों से एक साथ छुट्टियां मनाने निकल पड़ते हैं.

फ़्लाइट की कीमतें बढ़ जाती हैं, रेल की रिज़र्वेशन में दिक्कत आती है, होटल की बुकिंग का रेट दो या तीन गुना हो जाता है या फिर मिलना ही मुश्किल हो जाता है.

(पढ़ें- क्या जीवनसाथी की मौत के लिए तैयार हैं आप?)

पीक सीज़न के दौरान यातायात के ख़र्च से बचने का कोई तरीका है?

सोच-समझकर, पहले से प्लान करके, सस्ते लेकिन आरामदायक विकल्प खोजकर आप यदि छुट्टियां मनाने निकलेंगे तो ज़रूरत से ज़्यादा ख़र्च से बच जाएँगे.

4 टिप्स- सैर सपाटा हो, जेब न कटे

1. कब और कहां पीक सीज़न

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ये पता होना चाहिए कि दुनिया कि किस किस हिस्से में पर्यटन के लिए कब-कब पीक सीज़न होता है.

अगर आप यूरोप, अमरीका और कनाडा के देशों में जाना चाहते हैं तो जून मध्य से अगस्त का समय पीक सीज़न होता है.

दक्षिण अमरीका के लिए मध्य दिसंबर से अप्रैल तक का समय पीक सीज़न माना जाता है.

मध्य पूर्व के देशों के लिए अक्तूबर से अप्रैल का समय काफी भीड़ भाड़ वाला होता है.

ऑस्ट्रेलिया-न्यूज़ीलैंड की यात्रा के लिए दिसंबर से फ़रवरी के शुरुआती सप्ताह सबसे उत्तम माने जाते हैं.

(पढ़ें- अपना बॉस बनने के क्या हैं तरीके?)

2. सोमवार है फ़ायदेमंद

इस बात का ख्याल रखें कि सोमवार की सुबह या डे-टाइम या फिर रात में उड़ान लेने से अपके ख़र्च में खासा फ़र्क पड़ सकता है.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

मोटे तौर पर सोमवार की उड़ानें सस्ती होती हैं.

वॉल स्ट्रीट जर्नल के अध्ययन के मुताबिक ज़्यादा फ़ायदा तब होगा जब आप उड़ानों की बुकिंग रविवार को करेंगे.

आपको ट्रेवलोसिटी डॉट कॉम, एक्सपीडिया डॉटकॉम और स्काईस्कैनर जैसी वेबसाइटों पर सर्च करना चाहिए और भिन्न एयरलाइंस के रेट देखने चाहिए. छुट्टियों में इकॉनमी क्लास से ही सफ़र करें तो अधिक बचत होगी.

ध्यान रखें कि किस रूट पर हमेशा बुकिंग ज़्यादा हुई मिलती है.

(पढ़ें- कभी बॉस से बदला लेने की बात मन में आई?)

अगस्त के मध्य में यदि जापान जाना हो तो ट्रेन-फ़्लाइट में बुकिंग मिलना आसान नहीं होगा.

3. सड़क यातायात, कार-पूल करें

जब सभी यातायात के साधन इतने महँगे हो जाएँ तो सड़क मार्ग का इस्तेमाल यकीनन सस्ता पड़ेगा.

इतना ही नहीं, आप दोस्तों-रिश्तेदारों के साथ मिलकर कार-पूल भी कर सकते हैं.

सड़क यातायात वैसे भी आपको ज़्यादा जगहों पर मनचाहा समय व्यतीत करते हुए मज़े से घूमने, चहलकदमी करने का मौका देती है.

4. फ़्लैट शेयर और फ़्लैट स्वॉप

इसके अलावा पारिवारिक दोस्तों के साथ छुट्टियों के दौरान सैर-सपाटे का प्लान बनाएं. यदि आप फ़्लैट किराए पर लेकर अपार्टमेंट शेयरिंग करेंगे तो ज़्यादा सस्ता पड़ेगा.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

साथ ही ऐसी जगहें खोजें जहाँ किचन फ़्लैट के साथ मिल जाए ताकि आप अधिकतर मील्स में अपने खाना ख़ुद बना सकें.

किचन में खाना बनाकर आप बड़ी बचत कर सकते हैं.

एक बेहतरीन तरीका है दोस्तों के साथ फ़्लैट-स्वॉप. मतलब यह कि दुनिया या देश के अलग-अलग कोनों में रह रहे दोस्तों से आपसी सहमति के साथ आप उनके फ़्लैट में और वो आपके फ़्लैट में तय दिनों के लिए रह सकते हैं.

शायद नई जगह देखने का इससे बेहतर और सस्ता तरीका और न हो.

(पढ़ें- नौकरी चाहिए तो रिज़्यूमे में ये ना लिखें?)

इन छोटी-छोटी बातों का ख्याल करके आप भी पीक सीज़न पर घूमने फिरने का लुत्फ़ उठा सकते हैं.

(अंग्रेज़ी में मूल लेख यहाँ पढ़ें, जो बीबीसी कैपिटल पर उपलब्ध है.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार