विश्व युद्ध में लड़ने वाला भारतीय राजा

प्रथम विश्व युद्ध में ब्रिटेन की तरफ से भाग लेने वाले भारतीय सैनिक. इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption बैस्टिल डे परेड के बाद पारसी समुदाय के लोग भारतीय सैनिकों का उत्साह बढ़ाते हुए.

साल 1914 से 1918 तक चले पहले विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटेन की तरफ से हज़ारों भारतीय सैनिकों ने जंग में हिस्सा लिया था.

कॉमनवेल्थ वॉर ग्रेव कमीशन के मुताबिक अविभाजित भारत से 11 लाख सैनिक प्रथम विश्व युद्ध में शरीक हुए थे.

इस अविभाजित भारत में आज का भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और बर्मा शामिल थे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption लंदन में फ़्लैग डे के मौके पर दो बहनें झंडा बेचती हुईं. वे मोर्चे पर गए भारतीय सैनिकों के लिए चंदा जुटा रही थीं.

साल 1914 से 1918 के बीच ये सैनिक फ्रांस, बेल्जियम, मिस्र और मध्यपूर्व देशों के मोर्चों पर लड़ने के लिए भेजे गए थे.

भारतीय सैनिकों को इस लड़ाई में हिस्सा लेने के लिए 9200 से भी ज्यादा वीरता पदकों से सम्मानित किया गया था.

तकरीबन 60 हज़ार भारतीय सैनिक इस युद्ध में मारे गए थे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption यूरोपीय सैनिकों की वर्दी पहने दो भारतीय सैनिक पूरे साजो सामान के साथ लैस लेकिन उनके सैंडिल उनके पहनावे से मेल नहीं खा रहे हैं.

युद्ध में इन सैनिकों के योगदान को शांतनु दास की एक नई किताब 'इंडियन ट्रुप्स इन यूरोप' में ब्योरेवार जिक्र किया गया है.

किताब का प्रकाशन भारत के ही एक प्रकाशक मैपिन पब्लिशिंग ने किया है. शांतनु दास लंदन के किंग्स कॉलेज में अंग्रेजी के प्रोफेसर हैं.

इस फ़ोटो फ़ीचर में शामिल की गए तस्वीरें इसी किताब से ली गई हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption एक सिपाही जो लिखना नहीं जानता था, अपने अंगूठे की छाप वेतन के रजिस्टर पर लगा रहा है.

फ्रांसीसी परेड का आयोजन 14 जुलाई 1789 को फ्रांस के बैस्टिल किले के पतन के मौके पर किया गया था.

उस ज़माने में पंजाब में साक्षरता की दर महज़ पांच फीसदी थी. भारतीय सैनिकों में आधे से ज्यादा लोग इसी सूबे से लड़ने जाते थे.

उनमें से कई लोग दस्तखत करना जानते थे और मुट्ठी भर ऐसे सिपाही भी थे जो अंग्रेजी में लिख सकते थे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

एक तस्वीर में सिख और गोरखा सैनिकों ने राइफ़लें थाम रखी हैं और उनकी भाव-भंगिमाएं ये जतला रही हैं मानो वे फोटो के लिए पोज दे रहे हों.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ये फोटो भारतीय सैनिकों की गतिविधियों को दिखला रही हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पहले विश्व युद्ध के दौरान ब्रितानी कमांडर सर डगलस हेग भारतीय राजकुमार सर पेरताब सिंह को फ्रांसीसी सेना प्रमुख जनरल जोफरे से मिलवा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

चिट्ठियों की पड़ताल करते दो भारतीय क्लर्कों के काम का एक ब्रितानी अधिकारी निरीक्षण करते हुए.

सेंसर विभाग में काम करने वाले ये क्लर्क सिपाहियों की चिट्ठी से चुनिंदा हिस्सों को चीफ़ सेंसर के पास भेजते थे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

युद्ध के चार सालों के दौरान भारत से 172,815 जानवर बाहर भेजे गए. इनमें घोड़े, खच्चर, टट्टू, ऊंट, बैल और दूध देने वाले मवेशी शामिल थे.

इनमें 8970 खच्चर और टट्टू ऐसे भी थे जिन्हें बाहर से भारत लाकर प्रशिक्षित किया गया था और फिर युद्ध प्रभावित क्षेत्रों में भेजा जाता था. इस तस्वीर में ‘धूल से नहाते’ खच्चर.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

जोधपुर के राजा सर पेरताब सिंह दो भारतीय सिपाहियों के साथ. वे महारानी विक्टोरिया के ख़ास लोगों में से थे.

70 साल के सर पेरताब के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने युद्ध में भाग लेने की इजाज़त न मिलने के विरोध में वाइसरॉय के दरवाजे पर धरना दे दिया था.

1914 से 1915 के बीच वे यूरोप में तैनात रहे और फिर हैफा और एलेप्पो में.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

स्वास्थ्य लाभ ले रहे भारतीय सैनिक ब्रोकेनहर्स्ट के लेडी हार्डिंग अस्पताल में एक कार्यक्रम का आनंद लेते हुए.

इस अस्पताल में मरीजों की संख्या इतनी बढ़ गई थी कि कई बार इलाज कराने आए भारतीय सैनिकों को फर्श पर गद्दे बिछाकर जगह दी जाती थी.

जब बात मनोरंजन की होती थी तब भी अस्पताल को भीड़ की परेशानी से जूझना पड़ता था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार