उत्तरी यमन में 45 मारे गए

हूती विद्रोही इमेज कॉपीरइट AP
Image caption साउदी अरब का सेना के विरोध में लड़ने के लिए तैयार हूती विद्रोही

यमन में हूथी शिया विद्रोहियों और सरकार की सेना के बीच तेज़ होती लड़ाई के बीच सऊदी हवाई हमलों में, राहतकर्मियों के अनुसार, 45 लोग मारे गए हैं.

इंटरनेशनल ऑर्गेनाइज़ेशन फॉर माइग्रेशन के प्रवक्ता ने बताया कि हज्जा प्रांत में अल-मज़्राक में एक कैंप पर हुए हमले में 65 लोग घायल हुए है.

लेकिन यमन के विदेश मंत्री का कहना है कि ये हताहतें ईरान समर्थित हूथी विद्रोहियों की गोलाबारी में हुए हैं.

सऊदी अरब की सेना ने कहा है कि वह अपनी जंग यमन की बंदरगाहों तक ले जा रहा है और उसकी नौसेना ने वहाँ घेराबंदी शुरु कर दी है.

ऐसा समुद्री जहाज़ों की आवाजाही रोकने और विद्रोहियों के आने-जाने के रास्ते और हथियारों की सपलाई बंद करने के लिए किया जा रहा है.

उधर राष्ट्रपति मंसूर हादी की समर्थक सेना ने अदन इलाक़े के दक्षिण में बने बंदरगाह को विद्रोही शिया हूथी लड़ाकों से वापस छीन लिया है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अदन मिलिटरी कैंप पर हुए हमले के बाद उठता धुंआ

साथ ही बंदरगाह अदन में भी भारी लड़ाई की ख़बर है. यहां शिया विद्रोहियों को शहर के उत्तर पूर्वी उपनगरों की ओर धकेल दिया गया है.

साउदी अरब के नेतृत्व में राष्ट्रपति मंसूर हादी की समर्थक गठबंधन सेना विद्रोहियों को रोकने का प्रयास कर रहे हैं.

राष्ट्रपति हादी ने रविवार को हूथी विद्रोहियों को "ईरान की कठपुतली" कहा था और ईरान पर देश को अस्थिर करने की कोशिश करने का इल्ज़ाम लगाया था.

इस बीच साऊदी अरब ने कहा है कि यमन पर हमले तब तक जारी रहेंगे जब तक देश "स्थिर और सुरक्षित" नहीं हो जाता.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption यमन राष्ट्रपति समर्थक सेना के जवान का स्वागत करते हूती विद्रोही विरोधी लोग

लगातार पांच रातों से साऊदी अरब के नेतृत्व वाले संयुक्त अरब गठबंधन ने ईरान समर्थित हूथी विद्रोहियों और उनके सहयोगियों को निशाना बनाया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार