अमरीकी दख़लअंदाज़ी के दिन गएः ओबामा

अमरीकी देशों के नेता इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि लातिन अमरीकी इलाके में संयुक्त राज्य अमरीका की दखलंदाज़ी के दिन बीत चुके हैं.

ओबामा पनामा सिटी में सातवें 'समिट ऑफ़ द अमेरीकाज़' (उत्तरी अमरीकी और लातिन अमरीकी देशों का सम्मेलन) के शुरु होने से ठीक पहले बोल रहे थे.

ओबामा ने कहा, "वो दिन बीत गए हैं जब अमरीका इस हिस्से में अपने एजेंडे को लागू करने के लिए बिना किसी डर के हस्तक्षेप कर सकता था."

पनामा में आज अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और क्यूबा के राष्ट्रपति राउल कास्त्रो की मुलाकात होगी.

हालांकि ओबामा और कास्त्रो की मुलाक़ात पर अमरीका और वेनेजुएला के बीच तनाव का असर रह सकता है.

Image caption पिछले साल नेल्सन मंडेला के अंतिम संस्कार के दौरान भी ओबामा और कास्त्रो की मुलाक़ात हुई थी.

ओबामा और कास्त्रो की मुलाकात दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के बीच 56 सालों में पहली मुलाकात होगी.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का कहना है कि अमरीका क्यूबा से संबंधों का नया अध्याय शुरू कर रहा है.

आपसी समझ

ओबामा ने कहा, "हमें उम्मीद है कि ऐसा वातावरण बनेगा कि क्यूबा के लोगों की ज़िंदगी सुधरे. इसलिए नहीं कि हमने इसे थोपा है बल्कि आपसी बातचीत, प्रतिभा और उम्मीद के ज़रिए. ताकि वो तय कर सकें कि उनकी ख़ुशहाली के लिए सही रास्ता क्या है."

यह पहली बार है जब अमरीकी देशों के इस सम्मेलन में क्यूबा हिस्सा ले रहे हो. अमरीका और क्यूबा के नेताओं के हावभाव पर भी नज़रें रहेंगी.

ओबामा के बयान से एक दिन पहले ही अमरीकी गृह विभाग ने क्यूबा को चरमपंथ का समर्थन करने वाले देशों की सूची से हटाने की घोषणा की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार