बातचीत से हो समस्या का हलः सालेह

अब्दुल्लाह सालेह इमेज कॉपीरइट AP
Image caption यमन के पूर्व राष्ट्रपति अली अब्दुल्लाह सालेह

यमन में हूती विद्रोहियों के एक प्रमुख समर्थक, पूर्व राष्ट्रपति अली अब्दुल्ला सलेह ने लड़ाई खत्म करने के मकसद से अपील की है कि राजनीतिक संवाद को फिर से शुरू किया जाए.

सउदी अरब के नेतृत्व वाली गठबंधन सेना पिछले एक महिने से विद्रोहियों के ठिकानों पर हवाई हमले कर रही है. गठबंधन सेना मौजूदा सरकार के पक्ष में है.

पूर्व राष्ट्रपति ने सभी पक्षों से अनुरोध किया है कि वे समझौता वार्ता के लिए सहमत हो जाएं.

उनके मुताबिक ये वार्ता जेनेवा में संयुक्त राष्ट्र के तत्वाधान में होनीचाहिए.

अली अब्दुल्ला सालेह का ये वक्तव्य उस वक्त आया है जब यमन के कई शहरों से गठबंधन सेना के और हवाई हमलों की और अदन में लड़ाई जारी रहने की खबरें आ रही हैं.

बच्चों पर भारी है लड़ाई

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

वहीं संयुक्त राष्ट्र की बाल कल्याण संस्था यूनिसे़फ का कहना है कि यमन में एक माह से चल रहे गठबंधन सेना के हवाई हमलों में कम से कम 115 बच्चे मारे गए हैं और 172 अपाहिज हो गए हैं.

संयुक्त राष्ट्र ने शुक्रवार को कहा कि इस लड़ाई में 551 से भी ज़्यादा नागरिक मारे गए हैं.

यूनिसेफ में यमन के प्रतिनिधि जूलियन हार्नेस का कहना था, “ यमन में हज़ारों बच्चे ऐसे हैं जो अब भी जोखिम भरे माहौल में रह रहे हैं. मारे गए बच्चों की संख्या से पता चलता है कि ये लड़ाई इस देश के बच्चों के लिए कितनी भयावह साबित हुई है.”

संयुक्त राष्ट्र के एक अनुमान के अनुसार, इस हिंसा में तकरीबन 150,000 लोग बेघर हो गए हैं.

चरमराती स्वास्थ्य व्यवस्था

इमेज कॉपीरइट EPA

योहान्स वैन डेर क्लॉउ यमन के लिए संयुक्त राष्ट्र के मानवीय मुद्दों से संबंधित संयोजक हैं.योहान्स ने चेतावनी दी है कि देश में बढते खूनी संघर्ष से यहां की स्वास्थ्य व्यवस्था ढहने की कगार पर है.

देश भर में पानी, बिजली और खाने की चीज़ों की आपूर्ति हिंसा के कारण बाधित हो गई है.

देश के करीब बीस लाख बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं.

योहान्स वैन डेर क्लॉउ ने भी सभी पक्षों से अपील की कि वे सहायता सामग्री को नागरिकों तक पहुंचाने में मदद करें.

हालांकि सउदी अरब के नेतृत्व वाली सेना ने अपने हवाई हमलों के अभियान के खत्म होने की घोषणा की थी लेकिन विद्रोही बलों पर उनके हमले अभी जारी हैं. गठबंधन सेना निर्वासित राष्ट्रपति अब्दुर्रबुह मंसूर हादी को सत्ता वापिस दिलाना चाहती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार