नेपाल: 'अस्पताल के बाहर लाशों का ढेर है'

नेपाल भूकंप की तस्वीरें इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption आशुतोष की ट्विटर पर पोस्ट की गई इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर ख़ूब शेयर किया गया.

नेपाल में आए भूकंप के बाद के हालातों से सबसे पहले दुनिया के रूबरू कराने वाले काठमांडू के आशुतोष न्यूपाने पिछले 24 घंटों से भूखे प्यासे धूम रहे हैं.

आशुतोष ने अपने ट्विटर हैंडल @iHunnt से जो तस्वीरें पोस्ट की थीं उन्हें बीबीसी समेत दुनियाभर के मीडिया ने इस्तेमाल किया. पहले वो ट्विटर पर 'पण्डित बाजे' के नाम से थे. अब उन्होंने ट्विटर पर अपना नाम बदलकर 'प्रे फ़ॉर नेपाल' कर लिया है.

बेहद ख़राब टेलीफ़ोन लाइन पर उन्होंने बीबीसी हिंदी के दिलनवाज़ पाशा से बात की.

आशुतोष ने आपबीती कुछ यूं बताई

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption आशुतोष ने तस्वीर भूकंप आने के दौरान ही खींची थी.

मैं बस स्टैंड पर बस का इंतज़ार कर रहा था. अचानक धरती डोलने लगी. गाड़ियाँ हिलने लगी.

मैंने तस्वीरें अपने दोस्तों को दिखाने के लिए खींची थीं. ये नहीं सोचा था कि पूरी दुनिया की मीडिया इनका इस्तेमाल करेगा.

इमेज कॉपीरइट Ashutosh Neupane
Image caption भूकंप आने के दौरान नेपाल में लोग जहाँ थे वहीं रुक गए.

चारों ओर अफ़रा-तफ़री का माहौल था. शुरुआत में मुझे अंदाज़ा नहीं था कि भूकंप इतना भयानक होगा. इतने लोग इससे प्रभावित होंगे.

बाद में हालात का जायज़ा लेने निकले तो पता चला कि भूकंप कितना भयानक है.

इमेज कॉपीरइट Ashutpsh Neupane
Image caption भूकंप के वक़्त लोग घरों से निकलकर सड़कों पर आ गए.

धरहरा को धराशाई देखकर मन डूब गया. सिर्फ़ चीख पुकार ही सुनाई दे रही थी.

काठमांडू के बीर अस्पताल के बाहर लाशों का ढेर लगा है. शव बेहद ख़राब हालत में हैं. इस दृश्य ने आत्मा को झकझोर दिया है.

इमेज कॉपीरइट Ashutosh Neupane

कल भूकंप के बाद रात को आई बारिश ने हालात और मुश्किल कर दिए. कड़कड़ाती ठंड में रात भर बाहर जागना पड़ा.

रह-रहकर धरती हिलती रही और लोग डरते रहे.

इमेज कॉपीरइट Ashutosh Neupane

रविवार सुबह नौ बजे के बाद से भूकंप का झटका नहीं आया है इसलिए थोड़ी राहत और शांति का माहौल है.

मैंने कल से कुछ नहीं खाया है. लेकिन सिर्फ़ मैंने ही क्या बाक़ी लोगों ने भी तो कुछ नहीं खाया है.

इमेज कॉपीरइट Ashutosh Neupane

मैं काठमांडू में रहकर पढ़ाई करता हूँ. परिवार गाँव में हैं. फ़ोन लाइनें ठप्प होने के कारण घरवालों से बात नहीं हो पा रही है.

कल दोपहर सिर्फ़ 'हैलो' ही हो पाई थी कि फ़ोन कट गया. मीडिया से पता चला है कि मेरे इलाक़े में सब ठीक है.

इमेज कॉपीरइट Ashutosh Neupane

कुछ दोस्त घायल हुए हैं लेकिन मैं उनका हालचाल नहीं पूछ पा रहा हूँ. ये नेपाल के लिए बेहद मुश्किल वक़्त है. हम सभी लोग दुआ कर रहे हैं.

हमें दुनिया के साथ की ज़रूरत है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार