हर ओर दिख रही है बर्बादी की तस्वीर

नेपाली माँ इमेज कॉपीरइट AP
Image caption (तस्वीरः एपी)

नेपाल में अधिकारियों का कहना है कि मुल्क का हर जवान और पुलिसकर्मी राहतकार्यों में लगा है.

सरकार ने और हेलीकॉप्टरों के लिए अपील की है क्योंकि दूर दराज़ के कई इलाक़ों में पहुंचना अभी भी मुश्किल हो रहा है. शनिवार को आए विनाशकारी भूकंप के बाद मरने वालों की तादाद बढ़कर 4,000 हो गई है.

भारत में भूकंप से मरने वालों की तादाद 72 हो गई है.

कहा जा रहा है कि नेपाल में हताहत होने वालों की संख्या में इज़ाफ़ा हो सकता है.

भारतीय वायु सेना का जवान नेपाल में एक घायल बच्चे के लिए एंबुलेंस का इंतज़ार करते हुए. बच्चे और उसकी माँ को सुदूर के इलाक़े से बचाकर काठमांडू एयरपोर्ट पर लाया गया है.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption (तस्वीरः ईपीए)

25 अप्रैल को आए भूकंप में मारे गए लोगों के परिवार वालों ने मृतकों का 26 अप्रैल को सामूहिक अंतिम संस्कार किया.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption (तस्वीरः एएफ़पी)

चीन में चीनी और नेपाली छात्र भूकंप में मारे गए लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption (तस्वीरः एपी)

एक भारतीय पिता नेपाल में अपने बेटे की तस्वीर के साथ. अंतिम सूचना मिलने तक उन्हें अपने बेटे के बारे में कोई ख़बर नहीं मिली थी.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption (तस्वीरः रॉयटर्स)

नेपाल के अस्पतालों में घायलों के इलाज़ के लिए जगह कम पड़ गई है. एक अस्पताल में कमरे से बाहर लोगों का इलाज़ किया जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption (तस्वीरः ईपीए)

नेपाल में बचाव कार्य में लगा हुआ चीनी राहत एवं बचाव दल.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption (तस्वीरः गेट्टी)

अमरीका के न्यूयॉर्क में भूकंप में मारे गए लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त करते लोग.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption (तस्वीर-एपी)

नेपाल में इससे पहले 1934 में बड़ा भूकंप आया था जिसमें 17 हज़ार से ज़्यादा लोग मारे गए थे.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption (तस्वीरः ईपीए)

अंतरराष्ट्रीय संस्था रेडक्रॉस के सदस्य नेपाल में राहत सामाग्री लेकर जाते हुए.

इमेज कॉपीरइट AFP

चीन के हुनान प्रांत में चीनी और नेपाली छात्र भूकंप में मारे गए लोगों को श्रद्धाजंलि देते हुए. छात्रों ने पूरी दुनिया से नेपाल के भूकंप पीड़ितों की मदद करने का आह्वान किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)