'थप्पड़ वर्कशॉप' के बाद बच्चे की मौत

पैन हेल्थ मेडिकल सेंटर इमेज कॉपीरइट Google
Image caption ऑस्ट्रेलिया का पैन हेल्थ मेडिकल सेंटर

ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में एक चीनी थेरेपिस्ट की 'थप्पड़ वर्कशॉप' में भाग लेने के बाद एक सात साल के बच्चे की मौत हो गई है.

ऑस्ट्रेलियाई पुलिस अब इस मामले की जांच कर रही है.

सोमवार को सिडनी के एक होटल में एडन फेंटन को मृत पाया गया.

एडन मधुमेह के मरीज़ थे और उन्होंने अपनी मां के साथ सिडनी के एक स्वास्थ्य केंद्र में शाओ होंग्ची की एक वर्कशॉप में भाग लिया था.

पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि क्या एडन ने इंसुलिन लेना बंद कर दिया था.

थेरेपिस्ट लौट चुके हैं अपने देश

शाओ होंग्ची हर्स्टवील के सिडनी के पैन हेल्थ मेडिकल सेंटर में इस वर्कशॉप का संचालन कर रहे थे.

ऑस्ट्रेलिया के अखबार सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड के मुताबिक, पुलिस ने इस मामले में थेरेपिस्ट से बातचीत की है. इसके बाद वे अपने देश लौट चुके हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption वैकल्पिक चिकित्सा का एक रूप-चीनी कपिंग थेरेपी

न्यू साउथ वेल्स पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि संदिग्ध कारणों से हुई मौतों में यही साधारण प्रक्रिया है.

एडन को हर्स्टवील के होटल में बेहोश पाकर परिवार के सदस्य ने एंबुलेंस बुलाया था.

एडन पैन हेल्थ का मरीज़ नहीं था

न्यू साउथ वेल्स पुलिस प्रवक्ता ने बताया, "पैरामेडिक ने बच्चे को सीपीआर (कृत्रिम रूप से ऑक्सीजन) देने की कोशिश की, लेकिन बाद में उसे घटनास्थल पर ही मृत घोषित कर दिया गया. मौत के मामले में जांच शुरू कर दी गई है."

पैन हेल्थ मैनेजमेंट सेंटर के मालिक टैसली हैल्थपैक ऑस्ट्रेलिया ने अपने वक्तव्य में कहा है, "इस छोटे बच्चे की अप्रत्याशित मृत्यु से हम बहुत दुखी हैं. जो जानकारी हमें मिली है उसके अनुसार वह पैन हेल्थ के मरीज़ नहीं थे और हमारा कोई डॉक्टर उनका इलाज नहीं कर रहा था."

पूर्व बैंकर अब थेरेपिस्ट

इमेज कॉपीरइट
Image caption चीनी थेरेपिस्ट जिआओ होंग्ची

शाओ होंग्ची पूर्व इंवेस्टमेंट बैंकर हैं और 'पैडा लाजिन' नाम की थेरेपी की वकालत करते हैं.

इस थेरेपी में शरीर को थप्पड़ मार कर शरीर से टॉक्सिन्स बाहर निकालना शामिल होता है.

पिछले महीने उन्होंने द हिंदू अखबार को बताया था कि थप्पड़ मारने और शरीर को खींचने से शरीर के अवरोध खत्म होते हैं और इससे बीमारी से निजात पाने में शरीर को मदद मिलती है.

उनका कहना था कि उन्हें इसकी शिक्षा एक ताओ भिक्षु ने दी थी. इसके ज़रिए उन्होंने अपनी वर्कशॉप में मधुमेह और हाइपर टेंशन से ग्रसित कई लोगों का 'इलाज' किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार