आईएस ने 300 यज़ीदियों का क़त्ल किया

इमेज कॉपीरइट REUTERS

इराक़ के मोसुल में सैकड़ों यज़ीदियों को मार दिया गया है. यज़ीदियों और इराक़ी अधिकारियों का कहना है कि इस्लामिक स्टेट ने मोसुल के पश्चिम ये हत्याएं की हैं.

यज़ीदी प्रोग्रेस पार्टी के एक बयान में कहा गया है कि 300 अग़वा किए गए इन यज़ीदी लोगों को शुक्रवार को क़त्ल कर दिया गया.

इराक़ी उपराष्ट्रपति ओसामा-उल-नुजाईफी ने इस घटना को बर्बरतापूर्ण क़रार दिया है.

पिछले साल हज़ारों यज़ीदियों को अग़वा कर लिया गया था.

यज़ीदी इराक़ में अल्पसंख्यक हैं. आईएस इन्हें काफ़िर मानता है.

पढ़िए कौन हैं इराक़ के यज़ीदी?

इमेज कॉपीरइट AFP

बीबीसी के मध्य पूर्व मामलों के संपादक एलन जॉनस्टन का कहना है कि अभी ये तय नहीं है कि इन लोगों को कैसे मारा गया और अभी ही क्यों मारा गया है.

पिछले साल अग़वा किए गए यज़ीदी लोगों में से ज़्यादातर को मोसुल में ही रखा गया था. यह इलाक़ा आईएस स्टेट का गढ़ माना जाता है.

इस साल जनवरी में आईएस ने 200 यज़ीदियों को रिहा किया था. रिहा किए जाने वालों में अधिकतर लोग बुज़ुर्ग थे या घायल थे.

आईएस पिछले साल भर के दौरान काफ़ी यज़ीदियों का क़त्ल कर चुका है. ऐसा कहा जाता है कि आईएस महिलाओं को यौन शोषण के लिए ग़ुलाम बनाकर रख लेता है.

यज़ीदियों ने उत्तरी इराक़ के कुर्द नियंत्रण वाले इलाक़ों में भी शरण ले रखी है.

पिछले साल दिसंबर के बाद से क़ुर्द, इराक़ी और अमरीका के नेतृत्व में पश्चिमी देशों की बमबारी के बाद आईएस को कई इलाक़ों से खदेड़ दिया गया है लेकिन कई यज़ीदी गाँवो पर संगठन का कब्ज़ा अब भी बरक़रार है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार