नेपाल में राहत, एवरेस्ट जैसी चुनौती!

इमेज कॉपीरइट Reuters

नेपाल में भूकंप से भारी तबाही हुई है और अब प्रभावित दुर्गम इलाकों में राहत पहुँचाना सबसे बड़ी चुनौती है.

शनिवार को आए भूकंप में मरने वालों का आंकड़ा 6621 तक पहुँच गया है और नेपाल सरकार का कहना है कि अब किसी के ज़िंदा बचे होने की संभावना नहीं है.

नेपाल पहाड़ों का देश है और माउंट एवरेस्ट समेत दुनिया की दस सबसे ऊंची चोटियों में से आठ यहां पर हैं.

हेलिकॉप्टर से मदद

इमेज कॉपीरइट EPA

जब मैंने भारतीय वायु सेना के हेलिकॉप्टर से प्रभावित इलाकों को देखा तो मुझे इसकी साफ़ झलक मिली कि भूकंप पीड़ितों तक मदद पहुंचाना कितना मुश्किल है.

भूकंप की आपदा के बाद ये हेलिकॉप्टर मदद लेकर पहली बार नेपाल के दूरदराज के प्रभावित इलाके में जा रहा था.

बोरोंग बर्फीले पहाड़ों से घिरा हुआ है जो हिमालय की तलहटी पर बसा हुआ है. कुछ मिनटों के लिए हेलिकॉप्टर ने तबाह हुए गांव के चक्कर काटे ताकि हमें उतरने के लिए जगह मिल सके, लेकिन हेलिकॉप्टर दवाइयां, खाने के पैकेट और प्लास्टिक की चादरें वहां नहीं उतार पाया.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक पांच लाख लोग खुले में सो रहे हैं.

आख़िरकार पायलट ने राहत सामग्री को धान के खेतों में फेंकने का फ़ैसला लिया. इनमें से कुछ सामान बर्बाद हो गया तो कुछ ढलानों से लुढ़कता चला गया, फिर भी गांव वाले ये रसद पाकर काफी खुश दिखाई दिए.

जब रसद हेलिकॉप्टर से उतारी जा रही थी, तभी हमने हेलीकॉप्टर से कूदकर प्रभावितों से बात करने का फ़ैसला किया.

'सिर छिपाने की जगह नहीं'

एक व्यक्ति ने मुझे बताया कि इस गांव का हर मकान तबाह हो चुका है और उनके पास न ही सिर छिपाने के लिए कोई जगह है और खाने का भी बहुत कम सामान बचा है.

संयुक्त राष्ट्र के अनुमान के अनुसार नेपाल में लगभग पांच लाख लोग खुले में सो रहे हैं और बीमारियां देश को घेर सकती हैं.

नेपाल में अब मौसम भी राहत कार्यों में बाधा डाल रहा है. मॉनसून की बारिश कभी भी शुरू हो सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार