ग्रेट व्हाइट शार्क कैसे करती है शिकार?

इमेज कॉपीरइट BBC EARTH

दक्षिण अफ़्रीकी द्वीप समूहों में ग्रेट व्हाइट शार्क ख़ूब पाई जाती हैं. ये अमूमन समुद्र में पाए जाने वाली सील का शिकार करती हैं.

लेकिन सील का शिकार करना इतना आसान बात नहीं है. सील बेहद फुर्तीला जीव है और वह अपने स्तर पर शार्क को चकमा देने की ख़ूब कोशिश करता है.

जब ग्रेट व्हाइट शार्क अपने पूरे ग़ुस्से में हो तो वह पलक झपकते अपना शिकार कर लेती है. इस शिकार को कैमरे पर क़ैद करना ख़ासा मुश्किल था.

लेकिन हमने इसे फिल्माने की पूरी तैयारी की.

दरअसल ग्रेट व्हाइट शार्क की एक ख़ासियत ये होती है कि वो अपना शिकार दो ही समय पर करती है या, जब सूर्य डूब रहा हो या फिर उगने वाला हो. यानी सूर्य की रोशनी जब धीमी हो, तब वे शिकार की तैयारी करती हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

शार्क सील पर काफी समय तक नज़रें बनाए रखती है और फिर अचानक हमला कर देती है.

कई बार तो शार्क का हमला इतना तेज़ होता है कि वो हवा में कई फ़ीट तक उछल जाती है. ये किसी भी शार्क के बारे में सबसे अहम जानकारी है और ये शिकार एक तरह से बेहद दर्शनीय भी होता है.

वैसे ये शिकार एक सेकेंड से भी कम समय में पूरा हो जाता है और कभी भी हो सकता है, लिहाज़ा इसको कैमरे में कैद करना मुश्किल चुनौती है.

हमने फर्स्ट लाइट से एक नाव ली और साथ में हाई स्पीड़ कैमरे के साथ अल्ट्रा एचडी कैमरा लिया. हम ग्रेट व्हाइट शार्क के शिकार को फिल्माना चाहते थे, वो भी हवा में, क्योंकि ऐसा शिकार इससे पहले कभी शूट नहीं किया गया था.

पलक झपकते शिकार

इसके लिए हमने कुछ दिनों तक प्रत्येक सुबह घंटे भर तक हेलीकॉप्टर पर लगे जायरो-स्टेब्लाइजड कैमरे की मदद से समुद्र पर नज़र रखी. ये वो वक्त होता है जब समुद्र से भोजन जुटाने के बाद सील अपने अपने आईलैंड की ओर लौटती दिखती है.

जैसे ही हमें सील नज़र आईं, थोड़ी देर बाद ही हमें हेलीकाफ्टर से शार्क की आउटलाइन को भी देखने में सक्षम हुए. शार्क पानी के नीचे तैरते हुए सील के इंतजार में थी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

वो बेहद खतरनाक लग रही थी.

हेलीकॉप्टर से हम देख पा रहे थे कि सील की कोशिश शार्क की दिशा से अपनी दिशा अलग रखने और पानी में छलागं मारकर उसके निशाने से परे जाने की थी.

जब अचानक शार्क में पहली बार वार किया और पानी से बाहर हवा में उछली तो सील उससे परे जाने में कामयाब भी रही लेकिन वह घायल हो गई थी.

ऐसा होते ही बाकी साल तितर-बितर हो गई और बिखर कर अलग-अलग दिशा में तैरने लगीं.

सील काफी फुर्ती दिखा रही थी जबकि शार्क कहीं ज्यादा ताकतवर दिख रही थी.

मुक़ाबला वाकई बराबरी का था. लेकिन आखिरी में शार्क से बचना मुश्किल था और मैंने अब तक का ना केवल अविश्वसनीय शिकार देखा बल्कि उसे फ़िल्मा भी लिया.

(स्टीव ग्रीनवुड शार्क के सीरीज़ प्रोड्यूसर हैं. बीबीसी और डिस्कवरी के को-प्रॉडक्शन में तीन पार्ट की ये सीरीज़ हाल ही में ब्रिटेन में बीबीसी वन पर दिखाई गई है. बाद में इसे दुनिया के दूसरे हिस्सों में प्रसारित किया जाएगा.)

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहां पढ़ें, जो बीबीसी अर्थ पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार